अदलहाट (मीरजापुर)
जानकारी के अनुसार थाना क्षेत्र के एक गाँव की छात्रा का सम्बन्ध क्षेत्र के एक युवक के साथ एक वर्ष से चल रहा था दोनों के बीच एक वर्ष से शारीरिक सम्बन्ध भी चल रहा था।लड़का शादी का वादा करता रहा।लेकिन शादी नहीं की।जब इसकी सूचना लड़की के परिजनों को हुई तो उन्होंने लड़का पक्ष पर शादी का दबाव बनाया लेकिन बात नहीं मानने पर पीड़ित पक्ष ने लड़के के खिलाफ अदलहाट थाने में तहरीर दी।जिसपर पुलिस ने लड़के को गिरफ्तार भी कर लिया था।
मंगलवार को थाने में दोनों पक्षों की पंचायत हुई जिसपर युवती और युवक को आपस में बातचीत कर मामले को हल कराने की कोशिश पर युवक ने छात्रा से बुद्धवार की शुबह शादी करने पर राजी हुआ। जिसपर युवती ने युवक पर किसी प्रकार की कार्यवाही न करने की लिखित अपील की।जिसपर पुलिस ने लड़के को छोड़ दिया।जब बुद्धवार की सुबह थाने के पास मंदिर में छात्रा प्रेमी के आने का इंतजार करती रही लेकिन प्रेमी के न पहुचने पर वह निराश मन से इंतजार करती रही।जब उसको फोन कर करने की कोशिश की तो फोन को युवक ने काट दिया। जिससे लाचार युवती पुलिस में तहरीर देने थाने पहुची तो वहा तैनात एसएसआई ने युवती का तहरीर लेने से इनकार करते हुए उसे जाने को कहा।लाचार होकर युवती पुनः मंदिर के पास जा बैठी।काफी समय तक अकेली बैठा देख ग्रामीणों ने युवती छात्रा की आपबीती सुनी और उसे समझा कर घर जाने का प्रयास किया लेकिन उसने कहाकि मुझे नयन नहीं मिलता तो मैं जान देदूँगी।देर शाम समझाने के बाद ग्रामीणों ने छात्रा को उसके घर भेजवाया।ग्रामीणों में पुलिस के इस हरकत से काफी आक्रोश है।