दल के निशानों के बीच वयवस्था पर बड़ा निशान-MIRZAPUR

एक घटना ने तमाम चुनाव से संबंधित बैठक उच्च अधिकारियों के द्वारा अपने मातहतों को दिया गया निर्देश उस वक्त नाकाम नजर आया जब समाजवादी पार्टी के एक नेता के द्वारा और बहुजन समाज पार्टी के एक सक्रिय कार्यकर्ता के द्वारा किसको मत दिया गया यह मोहर लगा हुआ बैलेट पत्र सोशल मीडिया पर वायरल हुआ जिससे एक बार पुनः निष्पक्ष स्वच्छ चुनाव हो जाने का दावा और दमखम रखने वाली व्यवस्था पर बड़ा प्रश्न चिन्ह आम जनमानस ने लगाया | लोग समझ नहीं पा रहे थे की एक सामान्य भोली भाली मतदाता को जहां जेब चेक कर कर के मोबाइल निकलवाया जा रहा था वही बड़े दल के नेताओं व कार्यकर्ताओं को ऐसी छूट किस आधार पर दी गई और इतने बड़े आचार संहिता का उल्लंघन करने की इजाजत किस और किन परिस्थिति में उनको मिला यदि उन को विशेष छूट नहीं दिया गया था तो सबसे बड़ा प्रश्न यह है कि क्या वह बूथ सस्पेंड किया जाएगा वहां के जिम्मेदार अधिकारियों पर कार्रवाई की जाएगी और क्या ऐसे बूथों पर पुनः मतदान कराने का निर्णय लिया जाएगा यह सवाल आज लोगों के भीतर घूम रहा है कि आखिरकार कैसे मतदान करते वक्त मतपत्र की संख्या व मतदाता किस पार्टी को मोहर लगा रहा है इसकी पूरी रिकॉर्डिंग और फोटोग्राफी बाहर कैसे आई यह पूरे चुनाव व्यवस्था पर बड़ा सवालिया निशान छोड़ रहा है ?और इस तमाम चुनावी दल के निशानों के बीच सबसे बड़ा चुनाव वयवस्था पर बड़ा निशान लोगों के बीच में कायम रहा |

Editor-in-chief of this district based news portal.

Comments are closed.