9453821310-अब से मिर्जापुर जिला अस्पताल में भर्ती शुल्क नहीं लगेगा इसकी घोषणा आज प्रमुख सचिव ने मिर्जापुर में दिया है प्रमुख सचिव पिछड़ा वर्ग कल्याण एवं जनपद के नोडल अधिकारी महेश गुप्ता ने आज जानकारी देते हुए बताया कि जिला अस्पताल में मरीजों की भर्ती करने के लिए लिया जाने वाला 34 रुपया भर्ती शुल्क अब नहीं लगेगा उन्होंने बताया कि पुराने शासनादेश के क्रम में यह शुल्क अस्पताल के द्वारा लिया जा रहा था जबकि उसके बाद शासनादेश में मरीजों की भर्ती अस्पताल में निशुल्क करने का स्पष्ट आदेश है आज प्रमुख सचिव के जनपद भ्रमण के दूसरे दिन पत्रकारों से वार्ता कर मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निशुल्क भर्ती करने का निर्देश दिया है उन्होंने कहा कि यदि अब इसकी शिकायत प्राप्त होती है तो संबंधित के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी प्रमुख सचिव गुप्ता आज अपने भ्रमण के दूसरे दिन प्रातः काल 10:15 पर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को गुरसंडी पहुंचकर औचक निरीक्षण भी किया इस दौरान अस्पताल परिसर साफ-सुथरा पाया गया अस्पताल में बने हर्बल गार्डन को देखकर उसकी प्रशंसा भी मुख्य सचिव के द्वारा किया गया अस्पताल के निरीक्षण के दौरान पाया गया कि फरवरी 2017 के बाद स्टॉक रजिस्टर नहीं बनाया गया है जिस पर नाराजगी व्यक्त करते हुए संबंधित कर्मचारी को रजिस्टर बनाकर मुख्य विकास अधिकारी को दिखाने का निर्देश दिया निरीक्षण के दौरान दवाओं का स्टॉक स्टॉक रजिस्टर निष्प्रयोजन दवाओं की सूची आदि को भी देखा||वहां से सीधे बिजली विभाग पहुंचे बिजली विभाग में मीटर के सुधार के बारे में जानकारी प्राप्त की प्रमुख सचिव द्वारा जनपद में लगाए गए नए व पुराने कनेक्शन और मीटर के बारे में जानकारी प्राप्त किया तथा अभियंता को निर्देशित किया | बाद प्रमुख सचिव के द्वारा वन विभाग के कार्यालय में जाकर विभागीय स्थिति के बारे में जानकारी प्राप्त की तथा वन विभाग के अवैध अतिक्रमण से खाली कराए गए जमीनों के बारे में भी जानकारी प्राप्त की इस दौरान वन संरक्षक ने बताया कि मिर्जापुर वन विभाग के द्वारा लगभग 500 एकड़ से अधिक अवैध जमीनों को मुक्त कराया गया है जिस की सूची जिला अधिकारी के माध्यम से शासन को भेज दी गई है प्रमुख सचिव के के द्वारा कटरा कोतवाली का भी निरीक्षण किया गया इस दौरान पुलिस अधीक्षक आशीष तिवारी ने कोतवाली के बारे में FIR तथा अन्य आवश्यक जानकारी दी प्रमुख सचिन ने पुलिस अधीक्षक से कहा कि मोटरसाइकिल किस कारण से पढ़ी है उसे न्यायालय के आदेशानुसार निष्प्रयोजन कर नीलामी कराई जाए इस अवसर पर जिला अधिकारी विमल कुमार दुबे पुलिस अधीक्षक आशीष तिवारी अपर जिलाधिकारी विजय बहादुर नगर मजिस्ट्रेट देवेंद्र प्रताप मिश्र अपर पुलिस अधीक्षक सिटी परियोजना निदेशक डीआरडीए हरि चरण सिंह के अलावा अन्य संबंधित अधिकारी गण उपस्थित थे|