दवाओं की गडबडी पर जिलाधिकारी ने लगाई फार्मासिस्ट को फटकार

9453821310-जिलाधिकारी सहित सभी एस0डी0एम0ने किया पश चिकित्सालयों का निरीक्षण

अनुपस्थित चिकित्सकों का एक दिन का वेजन काटने का निर्देश

सामुदायकि स्वास्थ्य केन्द्रों की दवाओं की गडबडी पर जिलाधिकारी ने लगाई फार्मासिस्ट को फटकार

मीरजापुर, 03 मई, 2018( जिलाधिकारी अनुराम पटेल के निर्देश पर सभी उपजिलाधिकारियों के द्वारा सभी जनपद के सभी प्शु चिकित्यालयों का निरीक्षण किया गया। जिलाधिकारी ने अनुपस्थित चिकित्सकों का एक दिन का वेतन काटने का निदेश देते हुये अनुपस्थित कर्मचारियों को चेतावनी दी कि चिकित्सालय में समय से उपस्थित रहेकर ईमानदारी से कार्य सुनिश्चित करें अन्यथा आगे से अनुपस्थित पाये जाने पर कडी से कडी कार्यवाही की जरयेगी। निरीक्षण अभियान में उप जिलाधिकारी सदर ने सदर के सभी चिकित्सालयों, उप जिलाधिकारी लालागंज, मडिहान व चुनार के द्वारा अपने-अपने क्षेत्रों के पशु चिकित्सालयों का निरीक्षण किया गया।

जिलाधिकारी स्वयं आज पूर्वाह्न 9-20 बजे गुरसण्डी पशु चिकिेत्सालय का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान केवल एक कर्मचारी अशोक कुमार त्रिपाठी चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी उपस्थित पाये गये। जिलाधिकारी के जानकारी करने पर बताया गया कि प्रभारी चिकित्सक अनुश्री सिंह, अनुराधा पाण्डेय फार्मासिस्ट बिना किसी प्रार्थना व पूर्व सूचना के अनुपस्थित पाये गये तथा एक कर्मचारी राजेश पाण्डेय साप्ताहिक अवकाश पर है। इस दौरान जिलाधिकारी द्वारा ओ0पी0डी0रजिस्टर के देखने पर पाया गया कि दिनांक 2 मई को एक भी प्शु मरीज को नहीं देखा गयाइसी प्रकार आज निरीक्षण के समय तके काई पशु जांच के नहीं आये थे। दवाओं के रजिस्टर मांगने पर बताया गया कि फार्मासिस्ट के पास है जो अभी तक बिना किसी सूचना के नहीं आये है। उपस्थित कर्मचारी के द्वारा बताया गया कि अस्पताल में बाउड््रीवाल न होने के कारण अगल-बगल के लोगों के द्वारा अपने प्शुओं को अस्पताल परिसर में बांधा जा रहा है जिस पर जिलाधिकारी ने तत्कल पुलिस चैकी गुरसण्डी के इंचार्ज को बुलाकर अस्पताल परिसर को खाली कराने का निर्देश देते हुये कहा कि यदि कोई आगे से इस परिसर में प्शुओं को बांधता है तो उसके विरूद्ध चालान नोटिश देते हुये कार्यवाही की जाये। जिलाधिकारी ने अस्पताल व परिसर में गन्दगी को देखकर कडी नाराजगी व्यक्त् करते हुये कहा किअस्पताल को साफ-सुथरा रखा जाये।

इसके बाद जिलाधिकारी सीधे कोन विकास खण्ड के प्शु चिकित्सालय में जा पहुॅचे तहां पर एक कर्मचारी राकेश कुमार सिंह व एक अन्य चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी नन्हें मुख्य अस्पातल के बाहर अस्पताल के नये भवन में उपस्थित मिले। चिकित्सक व अन्य कर्मचारियों के बारे जानकारी प्राप्त करने पर फार्मासिस्ट ने बताया कि डा0 नवीन चन्द्र पाण्डेय लखनऊ गये है जानकारी करने पर पाया गया कि बिना पूर्व अनुमति के अस्पताल से गायब है। इसी प्रकार एक कर्मचारी सूर्यमणि को साप्ताहिक अवकाश पर बताया गया। जिलाधिकारी द्वारा इस अवसर पर सीमेन सहित अन्य दवाओं की जांच की तथा अस्सपताल के सफाई के निर्देश दिये। इस अस्पताल में बताया गया सीमेन समाप्ज हो गया है। मंगाने के लिये पत्राचार किया गया है। ओ0पी0डी0 रजिस्टर में पाया गया कि 29 अपै्रल को तीन जानवरों का इजात करने के बाददिनांक 03 मई के दस बजकर 12 मिनट तक कोई जानवर का इलाज करना अस्पताल में दर्ज नहीं किया गया है। जिलाधिकारी द्वारा एफ0एम0डी0 रजिस्टर, स्टाक रजिस्टर आदि के जानकारी करने पर बताया गया डाक्टर के पास बन्द है। प्शुओं के टीकारकण के बारे जानकरने पर फार्मासिस्ट द्वारा बताया गया 23000 लक्ष्य के सापेक्ष शत प्रतिशत प्शुओं का टीकाकरण कर लिया गया है। फार्मास्टि स्वयं दवाओं की सूची नहीं दिखा पाये और न ही दवाओं के बारे में जानकारी दे पाये जिस पर जिलाधिकारी द्वारा कडी फाटकार लगाते हुये सुधरने की हिदायत दिया गया। एण्डी रैबीज (जहरीला जानकवर काटने की दवा) के बआरे में बताया गया कि फ्रीज न होने के कारसा यहां नहीं रखा जाता आवश्यकता पडने पर मीरजापुर मुख्यालय से मंगवाया जाता है। स्टाक रजिस्टर में 14 सोडियम पियोसल्फर दवा अंकित है परन्तु मौके पर 12 ही मिला। इशु रजिस्टर खाली पाया गया उसमें किसी दवा की निकासी दर्ज नहीं किया गया है। अस्पताल में बी काम्प्लेक्स दवा नहीं है।

जिलाधिकारी दोनों पशु अस्पतालों की दयनीय दशा देख कर भौचक रह गये उन्होंने अस्पतालों को साफ सुथरा किया जाये दो दिन के बाद पुनः निरीक्षण कराया जायेगा गन्दगी आदि के रहने पर कडी कार्यवाही की जायेगी। नये पशु चिकित्सा अस्पताल की जानकारी करने पा बताया गया यू0पी0सी0एल0 कार्यदायी संस्था के निर्माण कराया गया जो पूर्ण हो चुका परन्तु अभी हैण्डओवर न होने के कारण पुराने भवन में अस्पताल चलाया जा रहा है। जिलाािकारी फोन से ही मुख्य प्शु चिकित्साधिकारी को निर्देशित करते हुये कहा कि नपीन भवन को एक सप्ताह में नियमानुसार कार्यवाही करते हुये हैण्डओवर करा कर अवगत करायें। उन्होंने प्शु चिकित्सालयों में डाक्टर समय से उपस्थित रहे, यदि आगे से कहीं पर कोई चिकित्सक बिना किसी पूर्व सूचना के अनुपस्थित पाया जाता है उसके विरूद्ध कडी से कडी कार्यवाही की जायेगी। उपजिलाधिकारी लालगंज के द्वारा लालगंज, हलिया व बरौधा प्शु अस्पताल का निरीक्षण किया गया जिसमें फार्मासिस्ट विजय शंकर एवं मुन्ना लाल चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी अनुपस्थित पाये गये इसी प्रकार बरौघा में डा0 उदय प्रताप उप जिलाधिकारी के पहुैचने के बाद अस्पताल पहुॅचे, तथा हलिया मे डा0 उपस्थित पाये गये परन्तु पाॅ।च कर्मचारी अनुपस्थित पाये गये। महिहान उप जिलाधिकारी के द्वारा बताया गया पटेहरा में एक चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी सुनील कुमार अनुपस्थित पाया गया। इसी प्रकार चुनार उपजिलाधिकारी के द्वारा सीखड प्शु चिकित्सालय में डा0 वी0के0 पटेल अनुपस्थित पाये गये तथा फार्मासिस्ट साढे नौ बजे अस्पताल आये। श्रीमती मीरा चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी अनुपस्थित पायी गयी। चुनार चिकित्सालय में डाक्टर सहित सभी कर्मचारी उपस्थित पाये गये। तथा बगही में व नारावपुर व जमालपुर जमालुपर में शिवनारायन व बबिता देवी दोना चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी अनुपस्थित पाये गये। चिकित्सालय में सभी डाक्टर व कर्मचारी उपस्थ्कित पाये गये । सभी अस्तापालों में गन्दगी का भरमार दिखा। अधिकांश स्थानों पर सीमेन नहीं पाया गया। अडगडा टूटा पाया गया। जिलाधिकारी ने सभी को निर्देशित करते हुये कहा कि दो दिन में अस्पतालों की स्थिति में सुधार लाये अन्यथा कार्यवाही की जायेगी।

Editor-in-chief of this district based news portal.

Comments are closed.