मिली दवओं की गडबडझाला- कडी फटकार

सामुदाय स्वास्थ्य केन्द्र चील्ह का भी औचक निरीक्षण
मीरजापुर, 03 मई, 2018( जिलाधिकारी के निरीक्षण के बाद बगल में स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य चिकित्सालय का निरीक्षण किया, निरीक्षण के दौरान एम0ओ0आई0सी0 प्रथम डा0 धीरज एवं एम0ओ0आई0सी0 द्वितीय डा0 ब्रजेश कुमार यादव, उपस्थित पाये गये। डा0 धीरज ने बताया कि डा0 विकास रंजन का स्थानान्तरण अन्यत्र जिले में हो गया परन्तु अभी रिलीव नहीं हुये है अस्पताल में अनुपस्थित पाये गये। बताया गया पाॅ।च चिकित्सक रेगुलर तथा पाॅच सचकित्सक संविदा के है। जिनमें तीन फील्ड में गये हैं।एक कर्मचारी दुर्गावती अनुपस्थित पायी गयी। एम0ओ0आई0सवी0 डा0धीरज के द्वारा 10-45 तक मात्र दो मरीज व एम0ओ0आई0सी0 द्वितीय डा0ब्रजेश कुमार के द्वारा 22 मरीज देखे गये। अस्पताल में चार फार्मासिस्ट हैं अस्पताल परिसर में दो हैण्डपम्प लगे हैं दोनो ख्राब पाये गये, पानी की टंकी भरा जाता है परन्तु ट।की टूटी होने के कारण पानी बह जाता है। एक बाथरूम में पानी नहीं पाया गया। अस्पताल में दो पुरूष वार्ड हैं एक में दो वेड तथा एक में स्टोर बनाकर मंहगी दवओं को रखा गया है। आषधि स्टार को भी देखा, शीत श्रंखला वैक्सीन कक्ष का भी निरीक्षण किया गया।

दवओं के स्टार के निरीक्षण में प्राप्त दवाओं व निकासी दवाओं के रजिस्टर की मिलान दवाओं की गिनती कर देख गया तो काफी धालमेल मिला दवाओं को बेतरतीब रखने के कारण मिलान में काफी परेशानी हुई। फ्लोक्सिड टैबलेट की जांच के दौरान बताया गया कि 80800 टैब्लेट है गिनती करने पर सही पाया गया परन्तु बच्चो की दवा फ्लोक्सिड सीरप 28800 सीरप के मिलान करने पर पहले 180 सीरप कम पाया गया बाद में फार्मासिस्ट सुरेश कुमार के द्वारा कहीं स्टोर में कहीं से एक डिब्बा और लाया गया गिनती करने पर 20 सीरप अधिक पाया गया जिस पर जिलाधिकारी ने कहा कि यदि कम है तो कहां गया यदि अधिक है मरीजों के नाम आगे दर्ज करने के बाद दिया नहीं जा रहा है उन्होंने कहा कि दवइयों का इंण्डेन व निकासी रजिस्टर को सही किया तथा दवओं को व्यवस्थित रखा जाये दो पुनः निरीक्षण में यदि धपला मिला तो कडी कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने 10 मरीजों से मरीजों से मौके पर बात-चीत की बताया गया अस्पताल से दवा दी जा रही है। जब कि बाहर कुछ ग्रामीणों ने बताया कि डा0 धीरज अस्पताल में नहीं रहते मरीज को बिना जांच किये ही अन्यत्र रेफर कर दिया जाता है जिसके कारण से काफी परेशानी होती है इनके द्वारा दवा भी बाहर से लिखा जाता है। ग्रामीणों के शिकायत पर जिलाधिकारी डा0 धीरज के आवास पर गया जहां पर देखने पर यह दिखा कि वहां पर उनका चतुर्थ श्रेणी स्टाफ रहता है कमरे में गन्दगी व किचन अस्त व्यस्त पाया गया, जिलाधिकारी ने कहां यहां आप नहीं रहते। उन्होंने कहा कि हम रात में भी निरीक्षण करेगें यदि चिकित्सक अस्पताल के आवास में नहीं पाये जायेयगे तो उनके विरूद्ध कडी कार्यवाही की जायेगी। जिलाधिकारी ने कहा कि सभी प्शु चिकिल्सायों एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में चिकित्सक समय से रहे तथा मरीजों को दी जाने वाली सुविधायें प्रदान करें तथा रात्रि निवास अपने परिसर के आवास में करें अन्यथा कडी से कडभ् कार्यवाही की जायेगी। जिलाधिकारी के निर्देश पर नगर मजिस्ट्ेट श्री पंकज वर्मा सदर प्शु चिकित्सालय तथा उप जिलाधिकारी लालगंज लालगंज प्शु चिकित्सालय का भी निरीक्षण किया गया। जिसमें काफी गन्दगी व खामियां पायी गयी। सभी अधिकारियों ने अस्पताल को साफ व अन्य व्यवस्थायें सही रखने का निर्देश दिया।

न्न्न्न्न्न्न्न्न्न्न्न्(जिला सूचना कार्यालय द्वारा प्रसारित)न्न्न्न्न्न्न्

प््रेास विज्ञप्ति

प््राधान मंत्री ग्रामीण आवास समय से पूर्ण करने का निर्देश

मीरजापुर, 03 मई, 2018( जिलाधिकारी श्री अनुरो पटेल ने आज कलेक्ट्ेट सभागार में सभी खण्ड विकास अधिकारियों की बैठक कर प्रधान मंत्री ग्रामीण आवास, शौचालय तथा मनरेगा के कार्यो में तेजी लाते हुये प्रगति लाने का का निर्देश दिया। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने कहा कि सभी खण्ड विकास अधिकारी प्रधान मंत्री आवास के निर्माण को एक सप्ताह में अपेक्षित प्रगति लाकर जिला औसत पर लायें। उन्होंने कहा आधार फीडिंग के मामले में विकास खण्ड कोन, लालगंज व हलिया की काफी खराब प्रति है उन्होंने खएड विकास अधिकारियों को चेतावनी देते हुये कहा कि एक सप्ताह में के अन्दर आधार फीडिंग कराकर लक्ष्य की पूर्ति करें। इसी प्रकार आवस पूर्णता में भी जनपद औसत 93 प्रतिशत है हलिया लाल व पहाडी विकास खण्ड अभी इसससे काफी पीछे है कार्य में तेजी लाकर एक सप्ताह के अन्दर जनपद औसत पर लायें। उन्होंने सभी खण्ड विकास अधिकारियों को चेतावनी देते हुये कहा कि प्रधान मंत्री आवास व शौचालयों के बारे में शासन द्वारा प्रत्येक दो दिन पर मानीटरिंग की जा रही है जिस भी विकास खण्ड का प्रगति कम रहेगा उसके विरूद्ध कडी कार्यवाही की जायेगी। इसी प्रकार मनरेगा की समीक्षा करते मजदूरों के भुगतान को समय से कराने का निर्देश दिया। शौचालय के सम्बन्ध में जिलाधिकारी ने कहा कि अब शौचालय का धनराशि सीधे लाभार्थियों के खाते में भेजी जा रही है अतएव उन्हें प्रेरित एवं जागरूक कर गुणवत्तापूर्ण शौचालय समय पूरा करायें। उन्होंने प्रधान मंत्री आवास एवं शौचलाय में सत्यापन के बाद जो लाभार्थी अपात्र पाये गये उनसे धनराशि की वूसली की कार्यवाही की जाये तथा पात्रता स्वीकृत करने वाले अधिकारी व कर्मचारी को दोषी मानते हुये विभागीय कार्यवाही की जाये।

इस अवसर पर परियोजना निदेशक डा0 हरिचरन सिंह, जिला पंचायत राज अधिकारी , उपायुक्त मनरेगा व एन0आर0एल0एम0 के अलावा सभी खण्ड विकास अधिकारी व ए0डी0ओ0 पंचायत उपस्थित रहे।

Editor-in-chief of this district based news portal.

Comments are closed.