स्टे के बावजूद न्यायालय मे विचाराधीन जमीन पर कब्जा करने का प्रयास -MIRZAPUR

जमीनी विवाद मे घर मे घुसकर महिलाओ को लाठी डंडे से पीटा
0 गर्भवती व महिलाओ सहित पूरा परिवार केन्द्रीय मंत्री अनुप्रिया दरबार पहुच लगाया गुहार
0 न्यायालय से स्टे के बावजूद जमीन पर कब्जे का प्रयास

उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जनपद में न्यायालय से पारित स्टे के बावजूद भाजपा के बूथ अध्यक्ष के घर मे घूसकर लाठी डंडे से पीटकर गंभीर रूप से घायल किए जाने का मामला प्रकाश में आया है। घायलों में ज्यादातर महिलाएं शामिल है सोमवार को सोमवार को पीड़ित परिवार बीवी बच्चों सहित केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री अनुप्रिया पटेल के भरूहना स्थित जनसंपर्क कार्यालय पर पहुंच कर न्याय की गुहार लगाई। पंडित परिवार ने केन्द्रीय राज्य मंत्री को दिये गये शिकायती पत्रक मे आरोप लगाया है कि जमीन कब्जा कर रहे विरोधियो द्वारा घर के अंदर घुसकर अभद्रता करने के साथ ही लाठी डंडे से इस कदर पीटा की महिलाओ के बदन पर घटना के चार दिन बाद भी चोट के गहरे निशान मौजूद है। इसके बावजूद भू माफियाओ के रंग मे रंग सिटी कोतवाली पुलिस ने केवल शान्तिभंग की धारा 323, 504 लगाकर कर्तव्य का इतिश्री कर दिया। घटना शहर कोतवाली के फतहा चौकी अंतर्गत एसपी आवास के पास की है।

केन्द्रीय राज्य मंत्री अनुप्रिया पटेल को पीडि़त परिवार के मुखिया शशिधर साहू उर्फ कल्लू पुत्र बैजनाथ निवासी मोहल्ला फतहा सिविल लाइन एसपी आवास के पास द्वारा सौपे गये पत्रक मे कहा है कि प्रार्थी का पूरा परिवार कई पिढियो से जिस जमीन पर काबिज है। उसका मुकदमा चल रहा है और न्यायलय से स्टे पारित है। आरोप है की विपक्षी एक दूसरे के साथ रायबंदी करके स्टे के बावजूद न्यायालय मे विचाराधीन जमीन पर कब्जा करने का प्रयास कर रहे है। बताया कि 31 मई को सुबह विवादित स्थल पर पहुंचे आरोपियों ने जमीन पर खुदाई शुरू कर दी जब शशिधर साहू ने इस बात का विरोध किया, तो दर्जनों की संख्या में पहुंचे हमलावरों ने लाठी डंडे से उनके ऊपर हमला बोल दिया। शशिधर ने किसी तरह घर में घुस कर जान बचाई। इसके बाद हौसला बुलंद भूमाफिया शशिधर साहू के मकान के अंदर घुस गए और महिलाओं को बेइज्जत करने के साथ-साथ लाठी डंडे से पीटा। जिसमें शशिधर के घर की गर्भवती महिला 32 वर्षीया सुलेखा, 30 वर्षीया रेनू, 40 वर्षीया शर्मिला, 45 वर्षीया फूलदेई और 50 वर्षीया बसंती को गंभीर चोटे आयी। आरोप है कि इसके बाद मामले की तहरीर देने के बाद पुलिस ने अपने मनमुताबिक तहरीर लिख कर जबरी हस्ताक्षर बनवाया फिर आरोपियो के खिलाफ सामान्य कार्रवाई की गयी। मंत्री से माग किया कि घर मे घुसकर महिलाओ के साथ अभद्रता करने और बुरी तरह पीटकर घायल करने वाले आरोपियो के खिलाफ कडी कार्रवाई सुसंगत धाराओ मे की जाय। पीडि़त परिवार ने फूट फूटकर रोते हुए बताया कि वे इस अत्याचार और जुल्म को नही सहेगे। अगर जरूरत पडी तो वे लखनऊ पहुंचकर मुख्यमंत्री दरबार मे भी न्याय के लिए गुहार लगाएगे।

कोतवाल बोले: तहरीर के आधार पर जो बना दर्ज हुआ

इस संबंध मे सिटी कोतवाल भुवनेश्वर पाण्डेय से बात करने पर बताया गया कि विवादित जमीन पर कब्जा करने का प्रयास किया जा रहा था। पीडि़त द्वारा दिये गये तहरीर के आधार पर जो मामला बना दर्ज किया गया दोनों पक्छो को रोक दिया गया है मामला सक्षम अधिकारियों के समक्ष रखा गया है ।हालाँकि घटना के वक्त पुलिस ने तत्परता दिखते हुए मौके से हमलावरों को गिरफ्तार किया था लेकिन जितनी जल्दी हमलावरों को पकड़ा गया उससे भी तेजी हमलावरों को छोड़ने में लगाया |

Editor-in-chief of this district based news portal.

Comments are closed.