अगरबत्तियों में गंगाजल का प्रयोग किया जाएगा-मुख्य विकास अधिकारी

9453821310-मिर्जापुर में शासन के द्वारा चलाए गए विकास के तमाम कार्यों में गति लाने के उद्देश्य से मुख्य विकास अधिकारी के द्वारा शासन की मंशा के अनुरूप कार्य को अंजाम तक पहुंचाने के लिए रात-दिन अधिकारी बैठक कर समीक्षा ले रहे हैं। उसी विषय में जानकारी देते हुए प्रियंका निरंजन ने बताया कि विकास के कार्यों में सबसे प्रमुख रुप से आवास संबंधी कार्य है पिछले 2 वर्षों के लक्ष्य को 1 वर्ष में पूर्ण किया है जिसमें 23417 आवास के सापेक्ष 22079 आवास का लक्ष्य पूर्ण किया गया है ।जो कि कुल लक्ष्य का 95% है। दूसरा अपने जनपद को खुले में शौच मुक्त घोषित करने के लिए शासन द्वारा 2018 तक लक्ष्य निर्धारित किया गया है। महिलाओं के सशक्तिकरण व उनकी आय को बढ़ाने के लिए प्रेरणा कैंटीन खोली जाएंगी जिसमें कि 17 कैंटीन खुल जाएगी और 25 कैंटीन खोलने का लक्ष्य है। महिलाओं के रोजगार को विविधीकरण करने से हर महिला को आय प्राप्त करने के लिए अलग-अलग स्त्रोत प्राप्त हो सकते है। उन्होंने बताया कि स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को अगरबत्ती और धूपबत्ती बनाने की ट्रेनिंग दी जाएगी और शीघ्र ही विंध्यवासिनी माता के मंदिर में चढ़े हुए फूलों से अगरबत्ती बनाएंगे वहीं अगरबत्तियों में साधारण जल की जगह गंगाजल का प्रयोग किया जाएगा ।जनपद के मुख्य मंदिरों से पुष्प और मालाओं के चढ़ाए जाने के उपरांत उनकी पवित्रता उससे जुड़ी आस्था बरकरार रहे इसके लिए चढ़ाए हुए फूलों को एकत्रित कर उससे अगरबत्ती बनाई जाएगी। विंध्य विकास परिषद की सहमति से विंध्यवासिनी मंदिर परिसर में ही एक जगह प्रोवाइड की जाएगी जहां पर हाथों से फूलों के द्वारा बनाई गई अगरबत्ती रखी जाएंगी। जिससे एक धार्मिक मान्यता के अनुरूप माता के प्रसाद से बनी आशीर्वाद स्वरुप यह अगरबत्तियां लोग अपने घर लेकर जा सके।

Editor-in-chief of this district based news portal.

Comments are closed.