समाचारगुफा के रहस्य को सुलझाने के लिए ग्रामीणों में कौतूहल -MIRZAPUR

गुफा के रहस्य को सुलझाने के लिए ग्रामीणों में कौतूहल -MIRZAPUR

मिर्जापुर के तेली मान पहाड़ी की गुफा के रहस्य को सुलझाने के लिए ग्रामीणों में कौतूहल बढ़ता जा रहा है |क्षेत्र में हजारो वर्ष पूर्व तेली बिरादरी की महिला के साथ घटी घटना के बाद इस क्षेत्र की पहाड़ी में बना गुफा की चर्चा दूर-दूर तक होने लगी ।इस गुफा के प्रवेश स्थल पर ही हजारों वर्ष प्राचीन चित्रण मौजूद है दावा किया जा रहा है कि रंगीन चित्र यदि पाषाण युग की है तो ऐतिहासिक दृष्टिकोण से यह स्थान और भी महत्वपूर्ण हो जाता है क्षेत्री लोगों ने मांग किया है कि पुरातत्व विभाग द्वारा इसको तत्काल संरक्षित किया जाना चाहिए। इसी गुफा के चट्टानों पर बने शैल चित्र मिर्जापुर के टांडा फॉल की चट्टानों पर 12 फरवरी 2014 में सीता कोहबर नामक स्थान पर पाए जाने की चर्चा सार्वजनिक हुई थी। ग्रामीणों को इस बात का अफसोस है की कुछ लोग इसके महत्व को ना समझते हुए इसको अज्ञानता वश नष्ट करते रहते हैं। तेली मान पहाड़ी के इस गुफा में पहुंचने का कई रास्ता है ,जिस में मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर से विंडम फाल जाने के रास्ते पर पड़ने वाले बेलहरा मोड़ से अंदर लगभग 6 किलोमीटर के बाद बनवारीपुर गांव के अटारी जंगल के पहाड़ों पर पहुंचने के बाद सहजता से ही पहाड़ों के बड़े-बड़े चट्टान देखने पर ऐसा प्रतीत होता है जैसे डायनासोर के वक्त पहाड़ों की जो दशा रही होगी लगभग समकक्ष एहसास होता है। ग्रामीणों ने बताया कि इस गुफा के नजदीक खजाना होने की दंत कथाओं के चलते समय-समय पर लोगों के द्वारा तंत्र विद्या साधना का प्रयोग करके खजाने की तलाश में खुदवाया भी जा चुका है। कितने लोग इस धन को पाने में सफल हुए और कितने असफल इसका कोई ठोस प्रमाण नहीं है। फुलवारी गांव के निवासी अनुराग पांडे ने बताया कि इन शैल चित्रों के अवलोकन के बाद इनका संरक्षण आवश्यक होगा चित्रों में जंगली जानवरों के चित्र के अलावा मानव पेड़ के नीचे आग तापते हुए ,पेड़ों का चित्र कुछ अन्य आकृतियां जिसमें गोल ,चौकोर ,हिरण ,शेर आदि के चित्र हजारों वर्ष पुराने हो सकते हैं। दंत कथाओं के मुताबिक तेली जाति की एक महिला अपनी बच्ची के साथ जंगल से जा रही थी लौटते वक्त देर शाम हो जाने की वजह से इस गुफा में रुकी लेकिन उस वक्त के दौरान घोर जंगली इलाका होने की वजह से शेर ने उसके बच्चे का शिकार कर लिया मौके पर उसी की मां ने खून से यह चित्रण किया होगा ऐसी संभावना जताई जा रही है। इसीलिए इस स्थान व गुफा का नाम तेलीमान गुफा के नाम से जाना गया।

आज ही डाउनलोड करें

विशेष समाचार सामग्री के लिए

Downloads
10,000+

Ratings
4.4 / 5

- Advertisement -Newspaper WordPress Theme

नवीनतम समाचार

खबरें और भी हैं