समाचारबैंकों की जिला स्तरीय समिति की बैठक में कम वसूली वाले बैंको...

बैंकों की जिला स्तरीय समिति की बैठक में कम वसूली वाले बैंको को चेतावनी- जिलाधिकारी अनुराग पटेल

मीरजापुर, 14 मई, 2019- जिलाधिकारी अनुराग पटेल के निर्देशन में आज मुख्य विकास अधिकारी श्रीमती पिंयंका निंरजन के द्वारा जिला सलाहकार समिति की बैठक कर बैंकवार ऋण जमा अनुपात सहित बैंक आधारित योजनाओं के प्रगति की समीक्षा की गयी। इस दौरान मुख्य विकास अधिकारी द्वारा सभी सम्बन्धित बैंक जिनका ऋण जमा अनुपात 40 प्रतिश्ता से कम है ऐसे बैंकों को कडी चेतावनी जारी करने का निर्देश देते हुये कहा कि विशेष कार्ययोजना बनाकर कार्य करंे ताकि अगले माह तक ऋण जमा अनुपात को बढाया जा सकें। उन्होंने कहा कि यदि अगले बैठक में प्रगति बढाया नहीं गया हो सम्बंधित बैं के विरूद्ध रिजर्व बैंक इंडिया को पत्राचार करते हुये कार्यवाही करायी जायेगी। बताया कि मार्च 2019 तक कुल जमा रू0 7898 करोड, कुल अग्रिम रू0 3625 करोड एवं समस्य बेैंकों का औसत ऋण जमा अनुपात 45दशमलव 90 प्रतिशत है। इसी प्रकार व्यावसायिक बैंको का औसत ऋण जमा अनुपात 45 दशमलव 90 प्रतिशत है। मुख्य विकास अधिकारी ने कहा कि अधिकांश बैंको में जमा की राश बढने एवं ऋण में तदुनसार वृद्धि न होने के कारण जनपद का ऋण अनुपात गिर गया है जिसे बढाने की आवश्यकता है। एलडी0एम0 ने बताया कि प्राथमिकता प्राप्त क्षेत्रान्र्गत जनपद का कुल अगिम 75 दशमलव 77 है। कृषि अग्रिम 40 दशमलव 66 है तथा एमएसई,सेक्सन अग्रिमों का प्रतिशत क्रमशः 22 दशमलव 28 तथा 18 दशमलव 28 प्रतिशत है। जनपद का कुल एनपीए 5 दशमलव48 प्रतिशत है। बैठक् में वार्षिक ऋण योजना वर्ष 2018-19 के प्रगति मार्च 2019 तक की समीक्षा में बताया गया कि मार्च 2019 कुल लक्ष्य रू0 1714 दशमलव 97 करोड के सापेक्ष रू0 1614 दशमलव 31 करोड की उपलब्धि है, जो लक्ष्य का 94 दशमलव 14 प्रतिशत है। यह भी बताया गया कि कृषि क्षेत्र में वार्षिक लक्ष्य का 77 दशमलव 56 प्रतिशत, उद्योग क्षेत्र में लक्ष्य का 165 दशमलव 08 तथा अन्य प्राथमिकता क्षेत्र में लक्ष्य के सापेक्ष 110 प्रतिशत है। यह भी बताया गया कि कृषि, उद्योग वं सेवा क्षेत्र में मार्च 2019 तक कुल लक्ष्य के सापेक्ष 94 दशमलव 52 प्रतिशत है। किसान क्रेडिट कार्ड के सम्बन्ध में विस्तृत चर्चा की गयी जिसमें बैंकों के द्वारा कम क्रेडिट कार्ड बनाने के लिये मुख्य विकास अधिकारी द्वारा कडी फटकार लगायी गयी। बताया गया कि वर्ष 2018-19 कुल 80000 कृषकों को के0सी0सी0 ़ण संवितरण का लक्ष्य प्राप्त हुआ है जिसमें से व्यवसायिक बेैकों को 63905 तथा सहकारी बैंको को 16095 कृषकों को लाभान्वित करना है। वित्तीय वर्ष 2018-19 में 31 मार्च 2019 तक कुल 94427 कृषकों को रू0 896 करोड का फसली ऋण संवितरित किया जा चुका है जो लक्ष्य का 118 प्रतिशत है। बैठक में प्रधानमंत्री सुरक्ष बीमा योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्येाति बीमा योयजना, अटल पेंशन योजना, एवं प्रधानमंत्री मुुद्रा योजना एवं स्टैण्डअप इंडिया योजना के प्रगति की भी समीक्षा की गयी जिसमें प्रगति लाने का निर्देश दिया गया। बैठक में लीड बैंक प्रबन्धक आलोक कुमार सिन्हा, महा प्रबन्धक इलाहाबाद बैंक, ग्रामीण बै।क सहित सभी बैंको के अधिकारी व विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे।

आज ही डाउनलोड करें

विशेष समाचार सामग्री के लिए

Downloads
10,000+

Ratings
4.4 / 5

- Advertisement -Newspaper WordPress Theme

नवीनतम समाचार

खबरें और भी हैं