समाचारउप निदेशक समाज कल्याण का वेतन रोकने का निर्देश-MIRZAPUR

उप निदेशक समाज कल्याण का वेतन रोकने का निर्देश-MIRZAPUR

मण्डलीय अधिकारी आयुक्त व जिला स्तरीय अधिकारी डी0एम0 के अनुमति लिये बगैर मुख्यालय नहीं छोडेगा

कार्यालयों में समय से आये अधिकारी व कर्मचारी औचक निरीक्षण में अनुपस्थित पर होगी कार्यवाही

आश्रम पद्धति व कस्तूरबा गांधी विद्यालयों के निरीक्षण न करने पर उप निदेशक समाज कल्याण का वेतन रोकने का निर्देश

डी0एम0 सप्ताह में तीन दिन करेगें फील्ड में भ्रमण -मण्डलायुक्त

मीरजापुर, 10 अक्टूबर, 2019- आयुक्त विन्ध्याचल मण्डल के0 राममोहन राव ने आज आयुक्त कार्यालय के सभागार में मण्डल के तीनों जिले के अधिकारियों की बैठक कर मुख्य मंत्री के उच्च प्राथमिकता वाले 71 बिन्दुओं विकास कार्यो की समीक्षा कीं। समाज कल्याण विभाग की समीक्षा के दौरान उप निदेशक समाज कल्याण के द्वारा आश्रम पद्धति विद्यलायों व कस्तूरबा गांधी के विद्यालयों की विगत माह निरीक्षण न किये जाने पर उप निदेशक समाज कल्याण का वेतन रोकने का निदे्र्रश देते हुये कहा कि जब तक मण्डल के सभी आश्रम पद्धति व कस्तूबा गांधी विद्यालयों की निरीक्षण कर रिपोर्ट नहीं प्रस्तुत करते है। तब तक माह का वेतन आहरित नहीं किया जायेगा। आयुक्त् ने कहा कि सभी मण्डलीय अधिकारी जनपदों में भ्रमण कर अपने विभाग के कार्यो का निरीक्षण करेंगे तथा जनपद में जाने पर सम्बंधित जिले के जिलाधिकारी व मुख्य विकास अधिकारी से अवश्य मिलेगें। उन्होंने कहा कि निरीक्षण के दौरान अपने मोबाइल से निरीक्षण का वीडियो व फोटोग्राफ भी संयुक्त विकास आयुक्त के मोबाइल पर भेजेगें। उन्होंने कहा कि प्रायः देखा गया है कि मण्डलीय अधिकारी क्षेत्र में भ्रमण पर नहीं जाते जिसके कारण से नीचे वाले अधिकारी व कर्मचारी कार्य नहीं करते। आयुक्त् ने कहा कि सभी जिलाधिकारी अपने क्षेत्र में सप्ताह में कम से कम तीन दिन फील्ड में जाकर विकास कार्यो की समीक्षा करेगें। इसी प्रकार मुख्य विकास अधिकारी प्रत्येय सप्ताह चार दिन फील्ड में रहेगें। उन्होंने यह भी कहा कि मुख्य विकास द्वारा जनपद भ्रमण के दौरान जिला अस्पताल, महिला अस्पताल व प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द व सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों का भी निरीक्षण किया जायेगा। समीक्षा के दौरान प्राथमिक व जूनियर स्कूलों में शिक्षकों की उपस्थिति व एमडीएम की गुणवत्ता की जांच के लिये डीसी एमडीएम माह में कम से कम 100 स्कूलों का भ्रमण कर फोटो अपलोड मुख्य विकास अधिकात्ररी व सयुक्त विकास आयुक्त को उपलब्ध करायेगें। उन्होंने सभी मण्डलीय व जिला स्तरीय अधिकारियो को हिदायत दी कि वे अपने कार्यालयों में कर्मचारियों की उपस्थिति अधिकतम 1.30 बजे तके अवश्य सुनिश्चित करायें यदि इसके बाद कोई कर्मचारी आता हैं उसके नाम के आगे अनुपस्थित लिखकर उपस्ाििति रजिस्टर की फोटो कर राजस्व विभाग के अधिकारी अपने अपर जिलाधिकारी व अपर आयुक्त प्रशासन तथा विकास के अधिकारी मुख्य विकास अधिकारी व संयुक्त विकास आयुक्त को वाटशत पर भेजेगा। उन्होंने कहा कि अधिकारी कार्यालयों का निरीक्षण भी करें तथा अस्पतालों, पीएचसी व कार्योलयों सहित कार्यालयों में बने पब्लिक टायलेट की सफाई सुनिश्चित करायें तथा उक्त सभी टायलेटों में पानी व फ्लस अवश्य रहे। उन्होंने कहा कि उनके द्वारा भी औचक निरीक्षण किया जायेगा यदि शौचायल में गन्दगी मिली तो सम्बंधित के विरूद्ध कडी कायघर््वाही की जायेगी। आयुक्त सम्पूर्ण समाधान, थाना दिवस, जिलाधिकारी व आयुक्त मुलाकाती तथा मा0 मुख्यमंत्री पेार्टल व शासन से सन्दर्भित शिकायत पत्रेा का निस्तारण गुणवत्तापूर्ण किया जाये तथा सभी मुख्य विकास अधिकारी अपने विकास भवन में शिकायतों की गुणवत्त व शिकायतकर्ता की संस्तुश्टि की जानकारी के लिये काल सेंटर बनाये। उन्होंने कहा कि निस्तारित शिकायतों का शिकायतकर्ता का नाम, मोबाइल नम्बर, शिकायत का विवरण तथा निस्तारण व वार्ता के दौरा संतुष्ट है या नहीं रजिस्टर पर प्रत्येक 15 दिन आयुक्त को उपलब्ध कराया जायेगा। मण्डलायुक्त ने अपर आयुक्त पशु विभाग से कहा कि नये प्शु आश्रय स्थलों का निर्माण तत्काल प्रारम्भ करा दें तथा निर्माण के दौरान सम्बंधित विभाग के अधिकारी वे जिलाधिकारी गुणवत्ता की जांच का परीक्षण करेगेे। ंउनहोंने कहा कि प्रत्येक ग्रामी स्तरीय अधिकारी प्रत्येक दिन क्या कार्य किया उसका अधिकतम 10 लाइन में लिखकर एक नोटबुक व रजिस्टर में तैयार रखें। लिपिक संवर्क का कर्मचारी जिस पत्रावली का कार्य जिस दिन करेगें उसमें पत्रावली संख्या व कार्य का विवरण भी लिखा जायेगा। किसी समय कार्य का विवरण मांग कर निरीक्षण किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि सभी सरकारी अधिकारी व कर्मचारी पर लागू होता है कि काम नही ंतो वेतन नहीं लागू किया जायेयगा। अपर जिलाधिकारी सुनिश्चित करेगें कि लेखपाल व सकेटरी अपना लोकेशन रजिस्टर बनायेगा तथा मुख्य विकास अधिकारी, जिला विकास अधिकारी व अपर जिलाधिकारी लेखपाल व सेकेटरी से मोबादल पर वार्ता कर लोकेशन का पता करेगें तथा उसे आस-पास किसी गांव के व्यक्ति से भी वर्ता करेंगके तथा उसका नाम व मोबाइल नम्बर भी लिखेगें। सभी मण्डलीय अधिकारी क्षेत्र में जोय्रगें और फोटोयुक्त लोकेशन अपलोड करेगें। चिकित्सकों की उपस्थिति पर कडी नाराजगी व्यक्त करते हुये कहा अपर निदेशक स्वास्थ्य को निर्देशित किया कि अपर मुख्य चिकित्साधिकारी, उप मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय में रोटेशन के अनुसार केवन दो लोग बैठेगें तथा दो के अलावा सभी लोग क्षेत्र में अस्पतालों का निरीक्षण करेगें। दवाओं, की उपलब्धता पर आयुक्त् ने कहा कि बाहर से दवा लिखे जाने पर सम्बंाित डाक्टर के विरूद्ध कडी कार्यवाही की जायेगी। इस दौरान पंचायत राज का समीक्षा के दौरान 14 वा और चतुर्थ वित्त आयोग में प्रापत धनराशि, व्यय धनराशि, अवशेष धनराशि तथा कराये कार्यो का विवरण एक सप्ताह पूर्व सूची मांगी गयी थी अभी उपलब्ध न कराये जाने पर कडी नासराजगी व्यक्त करते हुये चार दिन में उपलब्ध कराने का निर्देश उप निदेश पंचायत को दिया। समीक्षा में मुख्यमंत्री समग्र विकास ग्राम, पंेंशन, आदि की समीक्षा की गयी। मीरजापुर में चार अपूर्ण सम्पर्क मार्गो को तत्कल पूर्ण करने का निर्देश दिया गया। बेसिक श्ज्ञिक्षा विभाग की समीक्षा के दौरान कहा कि मख्य विकास अधिकारी दो माह के अन्दर कायाकल्प योजना के तहत स्कूलों व पीएचसी को मरम्मत कराकर ठीक कराायें। मुख्य विकास अधिकारी प्रत्येक विभाग की समीक्षा प्रत्येक माह करें। इस दौरान एनआरएलएम, मनरेगा तालाबों का सौन्दर्यीकरण, खेत तालाब, सतु निमग,सट््रीट लाइट, अमृत योजना विद्तीकरण आदि की समीक्षा की गयी। तथा गुणवत्तापूर्ण समय से पूरा करने का निदेश दिया गया। बैठक में जिलाधिकारी मीरजापुर अनुराग पटेल, सोनभद्र एस0राज निंगम, भदोही राजेन्द्र प्रसाद, अपर आयुक्त सुरन्द्र बहादुर, संयुक्त विकास आयुक्त ओम प्रकाष पाण्डये, तीनों जिले के मुख्य विकास अधिकारी व सभी मण्डलीय अधिकारी उपस्थित रहे।

आज ही डाउनलोड करें

विशेष समाचार सामग्री के लिए

Downloads
10,000+

Ratings
4.4 / 5

- Advertisement -Newspaper WordPress Theme

नवीनतम समाचार

खबरें और भी हैं