खादी ग्राम उद्योग द्वारा आयोजित मेले में चीनी सामग्रियों की बिक्री ने मचाया बवाल ,मिर्जापुर


मिर्जापुर में सरकार के द्वारा आयोजित खादी ग्राम उद्योग बोर्ड द्वारा संचालित प्रदर्शनी व मेले में चाइनीज सामग्रियों की बिक्री ने राजनीतिक तूफान और बवाल मचा दिया है। विपक्षी दलों की माने तो उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार की कथनी और करनी में सीधा अंतर मिर्जापुर के मेले में देखने को मिला ।सरकार कहती कुछ और है करती कुछ और है।
मिर्जापुर में जिला ग्राम उद्योग बोर्ड तथा उत्तर प्रदेश खादी के तत्वाधान में बीएलजे ग्राउंड में महुअरिया मिर्जापुर में दिनांक 28 ,12, 2020 से 6,1, 2021 तक आयोजित मंडल स्तरीय खादी ग्रामोद्योग प्रदर्शनी विवादों में उलझ गया है। प्रदर्शनी में चाइनीस सामग्रियों के साथ अन्य विदेशी प्रोडक्ट धड़ल्ले से बेचे गए एक तरफ सरकार चाइनीस प्रोडक्ट पर प्रतिबंध लगाकर एक संदेश देना चाहती है , यहां बताना आवश्यक है कि तमाम चाइनीस ऐप लोगों के मोबाइल से प्रतिबंधित कर दिए गए भारत चीन सीमा विवाद के पश्चात इस तरीके के तमाम कड़े कदम भारत सरकार ने उठाए है लेकिन वही जनपद मिर्जापुर के जिला ग्रामोद्योग अधिकारी ने सरकार की मंशा को दरकिनार करते हुए ऐसे दुकानदारों को सरकारी प्रदर्शनी में दुकान आवंटित कर दिया जो विवाद का कारण बना। तमाम स्वयंसेवी संगठनों ने बुद्धिजीवियों ने प्रदर्शनी के अंदर चाइनीज और अन्य विदेशी परिधानों के बिक्री पर कड़ा प्रतिरोध दर्ज कराया है। लोगों की माने तो ऐसे प्रदर्शनी लगाने के पीछे आत्मनिर्भर भारत के तहत अपने देश में किए गए उत्पादों का बेहतर प्रदर्शन करते हुए उसकी बिक्री बढ़ाए जाने के उद्देश्य से प्रदर्शनी का आयोजन किया गया था ।तमाम समूह की महिलाओं के द्वारा जो प्रोडक्ट बनाए गए थे उसके लिए प्रदर्शनी का आयोजन किया गया था। खादी के बढ़ावा और खादी उद्योग से जुड़े लोगों को प्रोत्साहन के उद्देश्य से ऐसे प्रदर्शनी लगाए जाते हैं। एक जिला एक प्रोडक्ट के दायरे में जो उत्पादन होता है उन लोगों को वरीयता देनी चाहिए थी लेकिन बड़ा सवाल यही है कि खादी ग्राम उद्योग बोर्ड के तहत लगाई गई इस प्रदर्शनी में चाइना व अन्य विदेशी सामग्रियों की बिक्री की अनुमति किसके द्वारा दी गई। दूसरी तरफ कुछ दुकानदारों ने आरोप लगाया है कि उनका स्वयं का उत्पाद किया हुआ सामग्री जब वह बेचने के लिए आए उनको दुकान आवंटित भी कर दिया गया लेकिन उनको ना देकर के विदेशी सामग्रियों की बिक्री करने वाले लोगों को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से दुकान उनको आवंटित किया गया ।मेले के अंदर लगाए हुए तमाम ऐसे दुकान मिले जिसमें बोर्ड और बैनर किसी और संस्थान का था और उस बैनर के तहत सामग्री कोई और बेच रहा था ।ऐसे तमाम अनियमितताओं के बीच बुधवार को मेले का समापन नगर विधायक के द्वारा किया गया। बताना आवश्यक होगा कि इस मेले का उद्घाटन मंत्री के द्वारा व कई विधायकों की मौजूदगी में हुआ था।

Editor-in-chief of this district based news portal.

Comments are closed.