समूह की महिलाये अपने उत्पाद से बन रही है आत्म निर्भर

दहेज प्रथा को समाप्त करने के लिये महिलाओ की महत्वपूर्ण भूमिका

पैसो का सदुपयोग करे, मादक पदार्थो व अन्य गलत कार्यो में न करे धन की बरवादी

मीरजापुर, 03 मार्च, 2021/ प्रदेश के महामहिम राज्यपाल आनंदी बेन पटेल के आज जनपद भ्रमण कार्यक्रम अन्तर्गत स्थानीय डेफेाडिल पब्लिक स्कूल मे उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन अन्तर्गत जनपद के स्वयं सहायता समूह की महिलाओ से सवांद स्थापित कार्यक्रम मे उपस्थित समूह की महिलाओ सम्बोधित किया। उन्होने कहा कि स्वयं सहायता समूह की महिलाओ से मिलने से इतना अच्छा महसूस होता है कि जितना कि किसी मन्दिर में जाकर पूजा करने से महामहिम नें कहा कि एक समय था जब घरो से महिलाओ को निकलने नही दिया जाता था जिसके कारण से शिक्षा से भी महिलाये वंचित रह जाती थी। उन्होने कहा कि एन0आर0एल0एम0 कार्यक्रम के तहत आज महिलाओ में जागरूकता लाते हुये समूह का गठन किया गया जिससे विभिन्न ट्रेडो में प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद अपने द्वारा स्वारोजगार करके महिलाये आत्मनिर्भर बनते हुये अपना एवं अपने घर का जीवन यापन कर रही है। उन्होने कहा कि जो हमे नही मिला जैसा शिक्षा, अपने बेटियो को स्कूल भेजे तथा शिक्षित करे। उन्होने कहा कि बेटी-बचाओ पढ़ाओ अभियान को सफल बनाने के लिये महिलाओ की महत्वपूर्ण भूमिका हो सकती है। उन्होने कहा कि आज समूह की महिलाये बैंको से सस्ते दर ऋण लेकर सिलाई मशीन, डेयरी, किराना दुकान, आटो वाहन सहित अनेक क्षेत्रो में कार्य कर रही है। तथा उत्पाद को स्वयं बाजार में जाकर बेच रही है। उन्होने कहा कि सरकार के द्वारा भी विभिन्न क्षेत्रो में स्वारोजगार के लिये जोड़ा जा रहा है। महामहिम राज्यपाल ने कहा कि आवश्यकता है कि पैसो का सही ढंग से उपयोग करे ताकि घर मे अच्छा भोजन शिक्षा व अन्य नई चीज लाया जा सके। महामहिम राज्यपाल ने कहा कि दहेज प्रथा को समाप्त करने मे महिलाओ की महवत्पूर्ण भुमिका हो सकती है। उन्होने कहा कि यह संकल्प ले कि न ही दहेज मागेंगे और नही दहेज देगे। इस बात को अपने घर के अभिावको को भी न करने के लिये प्रेरित करे। उन्होने कहा कि दहेज के कारण आज तरह-तरह के घटनाये घट रही है जिसके कारण से मुकदमा जेल आदि जैसी समस्याओ को झेलना पड़ता है। उन्होने कहा कि यह भी संकल्प ले कि अपने पैसो की बचत करते हुये अनावश्यक रूप से व्यय न करने दे इसके लिये मादक पदार्थो के सेवन न करने के लिये अपने घर के पत्येक सदस्यो को मना करे यदि वे इसके लिये पैसे की मांग करते है तो कदापि न दे उन्होने कहा कि कतिपय सामाजिक बुराईयो के कारण पूरे परिवार को तकलीफ उठानी पड़ती है और आर्थिक रूप से भी घर टूट जाता है उन्होने कहा कि सामाजिक बुराईयो को समाप्त करते हुये अपने बच्चो अच्छी शिक्षा और संस्कार प्रदान करे। उन्हाने कहा कि अधिकारी भी विभिन्न कार्यक्रमो के अन्तर्गत सामाजिक बुराईयो को समाप्त करने की दिशा में लोगो को जागरूक करे।उन्होने कहा कि सरकार की विभिन्न योजनाओ को पात्र व्यक्तियो तक पहुॅचाने के लिये समूह की महिलाये आगे आये तथा अपने-अपने गाॅवो में लोगो जानकारी दे ताकि उन्हे योजनाओ की जानकारी साथ-साथ उसका लाभ मिल सके। इस असवर पर अजीविका मिशन के अन्तर्गत मिशन वन, जी0पी0 वन बीसी अन्तर्गत ग्यारह महिलाओ प्रमाण-पत्र प्रदान किया गया तथा विभिन्न क्षेत्रो में कार्य करने वाली महिलाओ को पारिश्रमिक के रूप में 1 करोड़ 11 लाख का डेमो चेक समूह की महिलाओ को प्रदान किया गया। सामुदायिक शौचायल में कार्य करने वाली समूह की ग्यारह महिलाओ को सामुदायिक शौचायल की चाभी व प्रमाण-पत्र तथा मुसहर महिलाओ को प्रधानमंत्री/मुख्यमंत्री आवास की चाभी व स्वीकृति पत्र प्रदान की गयी ।

महामहिम राज्यपाल द्वारा औद्यानिक मिशन योजनान्तर्गत आर्थिक सशक्तीकरण की दिशा में अग्रसर स्वयं सहायता समूह की महिलाओ एवं प्रगतिशील कृषको के द्वारा ड्रैगन फूड, मसरूम, इस्ट्रा बेरी की खेती का प्रशिक्षण कार्यक्रम एवं लगाये गये प्रदर्शनी के स्टालो को का भी निरीक्षण किया गया।

इस अवसर पर सांसद अनुप्रिया पटेल, विधायक छानबे राहुल प्रकाश, विधायक नगर रत्नाकर मिश्र, जिलाध्यक्ष भाजपा बृजभूषण सिंह, जिलाध्यक्ष अपना दल, अध्यक्ष नगर पालिका परिषद मीरजापुर मनोज जायसवाल, जिलाधिकारी प्रवीण कुमार लक्षकार, पुलिस अधीक्षक अजय कुमार सिंह, मुख्य विकास अधिकारी अविनाश सिंह, अपर जिलाधिकारी यू0पी0 सिंह उपस्थित रहें।

Editor-in-chief of this district based news portal.

Comments are closed.