समाचारजिलाधिकारी की अध्यक्षता में जिला औद्यानिक मिशन समिति की बैठक सम्पन्न

जिलाधिकारी की अध्यक्षता में जिला औद्यानिक मिशन समिति की बैठक सम्पन्न

जिलाधिकारी की अध्यक्षता में जिला औद्यानिक मिशन समिति की बैठक सम्पन्न
मीरजापुर 02, सितम्बर 2021/ उद्यान विभाग के अन्तर्गत संचालित विभिन्न औद्यानिक मिशन योजनाओ/कार्यक्रमो के भौतिक एवं वित्तीय प्रगति की समीक्षा के सम्बन्ध में जिलाधिकारी श्री प्रवीण कुमार लक्षकार की अध्यक्षता में जिला औद्यानिक मिशन समिति की बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में सम्पन्न हुयी। बैठक में प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्यनयन योजना के अन्तर्गत बताया गया कि योजनान्तर्गत बेकरी, पशु एवं मुर्गी चारा, दाल व चावल मील, मक्का उत्पाद, मशरूम उत्पाद, हनी प्रोसेसिंग उत्पाद, मसाला एवं मसाला उत्पाद, नमकीन व मिठाई उद्योग, अचार मुरब्बा सिरका, जूस सेक, फल व हर्बल उत्पाद सहित कई उद्योगो को शामिल किया गया है। जिसमें लाभार्थी एफ0एम0ई0 पोर्टल पर आवेदन कर उद्योग लागत का 35 प्रतिशत अधिकतम 10 लाख रूपये तक के्रडिट लिंक्ड का कैपिटल सब्सिडी लाभ उठाकर आत्मनिर्भर बन सकते हैं। जिलाधिकारी ने कहा कि भारत सरकार द्वारा आत्मनिर्भर भारत के अन्तर्गत असंगठित क्षेत्र की इकाईयो की समस्या के समाधान हेतु प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उन्नयन योजना प्रारम्भ की गयी है। उन्होने बताया कि इसका उद्देश्य कुशल प्रशिक्षण एवं तकनीकी जानकारी प्रदान कर सूक्ष्म उद्यमियो की क्षमता में वृद्धि करने के लिये जी0एस0टी0, एफ0एफ0एस0आई0 मानको के लिये पूजीगत निवेश हेतु सहायता देना तथा पूजी निवेश ब्राडिंग एवं विपणन सहायता के लियंे कृषक उत्पादक संगठनो एवं स्वयं सहायता समूहो तथा सहकारी समितियो को सहायता प्रदान करना हैं। उन्होने कहा कि इसका वृहद स्तर पर प्रचार प्रसार कराना सुनिश्चित करंे ताकि अधिक से अधिक लोग इसका लाभ उठा सके। जिला उद्यान अधिकारी एकीकृत बागवानी विकास मिशन की जानकारी देते हुये बताया कि योजनान्तर्गत फल-फूल, मसाला, मौन पालन, ग्रीन/पाली हाउस आदि कार्यक्रमो का क्रियान्वयन कराया जाता है जिसमें 50 प्रतिशन अनुदान अनुमन्य हैं। बैठक में प्रधानमंत्री कृषि सिचाई, राष्ट्रीय आयुष मिशन, कृषि विकास योजना, अनुसूचित जाति/जन जाति कृषको हेतु औद्यानिक विकास योजना आदि के बारे में विस्तृत चर्चा की गयी। शीत गृह सम्बन्धी आलू भण्डारण के सम्बन्ध जिलाधिकारी ने कहा कि यह सुनिश्चित करे कि किसानो के आलू भण्डारण व निकासी में किसी प्रकार की परेशानी न होने पायें। इस अवसर पर जनपद में ड्रैगन फूड की खेती के बारे में चर्चा करते हुये उद्यान अधिकारी ने बताया कि एक एकड़ की खेती से प्रतिवर्ष लगभग 05 लाख की आय 30 सालो तक की जा सकती हैं। जिलाधिकारी ने योजनाओ प्रचार प्रसार करने पर बल देते हुये कहा कि किसानो को इसका लाभ पहुँचाया जाये ताकि वे औद्यानिक खेती कर आत्मनिर्भर बन सकें।

आज ही डाउनलोड करें

विशेष समाचार सामग्री के लिए

Downloads
10,000+

Ratings
4.4 / 5

- Advertisement -Newspaper WordPress Theme

नवीनतम समाचार

खबरें और भी हैं