समाचारबेटे -बेटी का भेद मिटाकर सभी बच्चों को अच्छी शिक्षा देने के...

बेटे -बेटी का भेद मिटाकर सभी बच्चों को अच्छी शिक्षा देने के प्रति जागरूक किया गया, मिर्जापुर


मिशन शक्ति फेज 3 के अंतर्गत शासन की मंशानुरूप महिला कल्याण विभाग के तत्वाधान में कस्तूरबा गांधी विद्यालय महामलपुर मझवां में घरेलू हिंसा, बालिका शिक्षा के प्रति जागरूकता हेतु ग्राम स्तर पर नुक्कड़ नाटक का आयोजन कराया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में डॉ आशा राय पूर्व जिला कार्यक्रम अधिकारी के साथ ही जिला समन्वयक कस्तूरबा गांधी विद्यालय मिर्जापुर एवं महिला कल्याण अधिकारी डॉ मंजू यादव मंचासीन रही ।कार्यक्रम का संचालन कस्तूरबा गांधी विद्यालय की प्रधानाध्यापिका ने किया। जिला समन्वयक दिव्या जायसवाल एवं शालिनी देवी ने उपस्थित बच्चियों एवं महिलाओं आदि को बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का स्टीकर लगाकर एवं विभागीय योजनाओं के प्रति जागरूक करने हेतु पंपलेट वितरित किया। कार्यक्रम में उपस्थित ग्रामीण महिलाओं द्वारा स्वागत गीत भजन एवं गीत के माध्यम से उपस्थित लोगों को घरेलू हिंसा एवं बालिका शिक्षा के प्रति जागरूक किया। कस्तूरबा विद्यालय की छात्राओं फोटो ,काजल,सरोजा देवी ,मीनू आदि द्वारा घरेलू हिंसा एवं बालिका शिक्षा पर नाटक प्रस्तुत कर वहां उपस्थित लोगों को मुग्ध कर दिया। बच्चियों द्वारा प्रस्तुत नाटक को देखकर सभी लोगों ने प्रभावित होकर घरेलू हिंसा को समाप्त करने एवं बालिकाओं की शिक्षा पर विशेष ध्यान देने का संकल्प लेते हुए हस्ताक्षर अभियान में सम्मिलित हुए । कार्यक्रम प्रस्तुत करने वाले बच्चियों और महिलाओं को महिला कल्याण विभाग द्वारा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का लोगो लगा हुआ टी-शर्ट एवं पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम के दौरान कस्तूरबा गांधी विद्यालय के जिला समन्वयक रमेश कुमार राय द्वारा बताया गया कि गरीब परिवार की बच्चियों की शिक्षा के लिए कस्तूरबा विद्यालय शासन की एक अच्छी पहल है। महिला कल्याण अधिकारी डॉ मंजू यादव द्वारा कार्यक्रम में उपस्थित महिलाओं ,बच्चियों एवं लोगों में विभाग द्वारा चलाई जा रही समस्त योजना के प्रति जागरूक किया गया एवं कार्यक्रम में ही मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला की 7 बच्चियों का,निराश्रित महिला पेंशन योजना के 2 महिलाओं एवं बाल सेवा योजना की दो बच्चों का चिन्हांकन करते हुए उनका आवेदन कराने हेतु प्रधानाध्यापिका एवं जिला समन्वयक कस्तूरबा गांधी विद्यालय से अनुरोध किया गया एवं किसी भी प्रकार की कठिनाई होने पर महिला कल्याण अधिकारी से संपर्क करने के लिए कहा गया ।डा आशा राय द्वारा बेटे -बेटी का भेद मिटाकर सभी बच्चों को अच्छी शिक्षा देने के प्रति जागरूक किया गया ।उक्त कार्यक्रम में कस्तूरबा विद्यालय की शिक्षिकाएं छात्राएं तथा ग्रामीण महिलाएं एवं पुरुष उपस्थित रहे।

आज ही डाउनलोड करें

विशेष समाचार सामग्री के लिए

Downloads
10,000+

Ratings
4.4 / 5

- Advertisement -Newspaper WordPress Theme

नवीनतम समाचार

खबरें और भी हैं