वीडियोओबीसी वर्ग के जनप्रतिनिधि को विधानसभा का उपाध्यक्ष बनाया जाए

ओबीसी वर्ग के जनप्रतिनिधि को विधानसभा का उपाध्यक्ष बनाया जाए


अपना दल एस की मांग- दलित अथवा ओबीसी वर्ग के जनप्रतिनिधि को विधानसभा का उपाध्यक्ष बनाया जाए
कार्यकारी अध्यक्ष श्री आशीष पटेल ने कहा- 2014, 2017 और 2019 में केंद्र में एनडीए सरकार बनाने में ओबीसी व दलित वर्ग की महत्वपूर्ण भूमिका रही

मिर्ज़ापुर, 14 अक्टूबर
अपना दल (एस) के कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं विधान परिषद सदस्य आशीष पटेल ने मांग की है कि दलित अथवा ओबीसी वर्ग के जनप्रतिनिधि को उत्तर प्रदेश विधानसभा का उपाध्यक्ष बनाया जाए। उन्होंने कहा है कि फिलहाल उत्तर प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष पद एवं विधान परिषद के सभापति पद पर वर्तमान में ओबीसी एवं दलित समाज से सम्बंधित व्यक्ति नहीं हैं। ऐसे में ओबीसी अथवा दलित समाज के विधायक को विधानसभा का उपाध्यक्ष बनाया जाना चाहिए। इससे सरकार का एक अच्छा संदेश जायेगा।
आगामी 18 अक्टूबर को होने वाले उत्तर प्रदेश विधानसभा के उपाध्यक्ष पद के निर्वाचन के संबंध में श्री आशीष पटेल ने कहा है कि 2014 के लोकसभा चुनाव, 2017 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव और 2019 के लोकसभा चुनाव में केंद्र की एनडीए सरकार और उत्तर प्रदेश की भाजपा गठबंधन की सरकार बनाने में पिछड़ा वर्ग एवं दलित वर्ग की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। ऐसे में विधानसभा का उपाध्यक्ष किसी दलित अथवा ओबीसी वर्ग के विधायक को बनाना चाहिए। ताकि पिछड़ा एवं दलित वर्ग में एक अच्छा संदेश जाए।
पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजेश पटेल एवं प्रदेश प्रवक्ता राजेश श्रीवास्तव का कहना है कि अपना दल एस के कार्यकारी अध्यक्ष की इस पहल से प्रदेश के ओबीसी एवं दलित वर्ग में एक अच्छा संदेश जाएगा। बीजेपी प्रदेश नेतृत्व को इस पर गंभीरता से विचार करना चाहिए।

आज ही डाउनलोड करें

विशेष समाचार सामग्री के लिए

Downloads
10,000+

Ratings
4.4 / 5

- Advertisement -Newspaper WordPress Theme

नवीनतम समाचार

खबरें और भी हैं