समाचारमीरजापुर-सोनभद्र सीमा पर बनेगा बिरसा मुंडा जनजातीय संग्रहालय

मीरजापुर-सोनभद्र सीमा पर बनेगा बिरसा मुंडा जनजातीय संग्रहालय


केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल की विशेष पहल पर मीरजापुर-सोनभद्र सीमा पर बनेगा बिरसा मुंडा जनजातीय संग्रहालय

जनजातीय संग्रहालय में आदिवासी समाज की समृद्ध गौरवशाली इतिहास का सजीव चित्रण होगा: अनुप्रिया पटेल, केंद्रीय वाणिज्य व उद्योग राज्य मंत्री
मीरजापुर, 25 नवंबर
अपना दल (एस) की राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं केंद्रीय वाणिज्य व उद्योग राज्य मंत्री अनुप्रिया पटेल की विशेष पहल पर आदिवासी भाइयों की सांस्कृतिक विरासत को संवारने के लिए मीरजापुर व सोनभद्र जनपद की सीमा पर महान क्रांतिकारी बिरसा मुंडा जनजातीय संग्रहालय का निर्माण होगा। यहां पर आदिवासी समाज की संघर्ष गाथा, उनके समृद्ध एवं गौरवशाली इतिहास का सजीव चित्रण होगा।
केंद्रीय मंत्री श्रीमती पटेल का कहना है कि पिछले दिनों 15 नवंबर को भगवान बिरसा मुंडा की जयंती के अवसर पर उत्तर प्रदेश के समाज कल्याण मंत्री रमापति शास्त्री से मुलाकात के दौरान मीरजापुर-सोनभद्र की सीमा पर बाबा बिरसा मुंडा के नाम पर जनजातीय संग्रहालय के निर्माण का सुझाव दिया था। तत्पश्चात रमापति शास्त्री ने जनजातीय म्यूजियम के निर्माण की घोषणा की।
श्रीमती पटेल का कहना है कि जनजातीय संग्रहालय के निर्माण हेतु सोनभद्र से सटे मीरजापुर जनपद में जल्द से जल्द जमीन की तलाश पूरी हो जाएगी। इस बाबत जल्द ही प्रक्रिया शुरू होगी।

केंद्रीय मंत्री श्रीमती पटेल का कहना कि उतर प्रदेश के मिर्जापुर और सोनभद्र जनपद में कोल, चेरो, गोंड, पनिका, खरवार आदि जनजातीय समुदाय के लोग बड़ी संख्या में निवास करते हैं। इस इलाके में जनजातीय संग्रहालय के निर्माण से आदिवासी भाइयों के सामाजिक एवं आर्थिक तौर पर विकास का द्वार खुलेगा। मीरजापुर व सोनभद्र के अलावा चंदौली, भदोही, प्रयागराज में काफी तादाद में आदिवासी भाई निवास करते हैं। संग्रहालय के निर्माण से इन क्षेत्रों में भी अंतिम पंक्ति में खड़े व्यक्ति को भी विकास की मुख्य धारा से जुड़ने में मदद मिलेगी।

आज ही डाउनलोड करें

विशेष समाचार सामग्री के लिए

Downloads
10,000+

Ratings
4.4 / 5

- Advertisement -Newspaper WordPress Theme

नवीनतम समाचार

खबरें और भी हैं