कल्याण:-संवाददाता- अशोक वर्मा—– कल्याण सत्र न्ययालय और मुंबई हाई कोर्ट से दर्जनों लोंगों के साथ करोड़ों की धोखाधड़ी करने के मामले में 3 बार सत्र न्यायालय और दो बार मुंबई हाई कोर्ट से भी अग्रिम जमानत याचिका खारिज होने के बाद करीब ढाई वर्ष से पुलिस की आँखों में धूल झोंकते हुए फरार चल रहे कल्याण पूर्व के बिल्डर कई बार सड़क मार्ग से कल्याण महाराष्ट्र से गांव मौहियां जगदीशपुर चील जिला मिर्जापुर यूपी और यूपी से मुंबई महाराष्ट्र आता जाता रहा है, और रविवार 5 फरबरी की रात करीब 10 बजे मध्यप्रदेश के इंदोर के आस-पास जब फरार आरोपी अपनी सफेद कलर की जायलो कार – द्वारा यूपी से महाराष्ट्र आ रहा था तभी उसका एक्सीडेंट हो गया |कथित उस एक्सीडेंट में लड़की की मौत हो गई और आश्चर्य की बात यह है कि बाक़ी तीन लोंगों को कोई चोट नहीं लगी और नाही उक्त जायलो कार में कुछ खास खराबी आयी और यही नहीं आनन फानन में, अपनी ससुराल नकहरा गांव तहसील चुनार जिला मिर्जापुर वापस जाकर लड़की का दाह संस्कार भी करावा दिया जिससे लोंगों को शंका होरही है कि आखिर ऐसा कैसे एक्सीडेंट हुआ जिसमें मात्र उक्त लड़की की जान गई या कही कुछ और हुआ और एक्सिडेंट का रूप दे दिया गया सबसे आश्चर्य की बात यह भी है कि एक फरार आरोपो इतनी आजादी से सड़क भ्रमण कर रहा है और एक्सीडेंट में एक मौत होने के बाद भी स्थानीय पुलिस ने कोई विशेष छानबीन नहीं की और मामला रफादफा कर दिया गया जबकि आज कल इंटरनेट का युग है और हाई कोर्ट से भी अग्रिम जमानत नहीं मिलने पर जो आरोपी हाजिर नहीं होकर फरार हो जाते है उनकी तस्बीर (फोटो) के साथ पूरी जानकारी नेट पर डालदी जाती है क्या फरार के बारे में ऐसा पुलिस ने किया|