पिछले कई वर्षो से गड्ढा बनने का रिकॉर्ड बनाता मिर्ज़ापुर का ये सड़क

अगर यूं कहा जाय की पिछली उ.प्र. की सरकार को सत्ता से हाथ धोना पड़ा तो उसकी मुख्य वजह खराब सड़के होना भी कहा जा सकता है ।खराब सड़क सिर्फ रीढ की हड्डी ही नहीं तोड़ती बल्कि क्षेत्र के विकास की कमर भी तोड़ देती है ।पिछले 20 वर्षो से जमुई बाजार से इमलियचट्टी वाला रोड बुरी तरीके से क्षतिग्रस्त है ,लोग मजबूर है ,आवागमन के चलते रोज लोग चोटिल हो रहे है ।स्थानीय लोग तमाम बिमारियों की चपेट में आ रहे है ।ना जाने कितने राजनेतिक बदलाव आये गए लेकिन फिर भी क्षेत्र के इस 17 कि. मी. पर मानो किसी का श्राप हो, की आज तक क्षेत्रवासी सड़क की दुर्दशा पर आंसू बहा रहे है ।पत्थर के खनन की वजह से इस क्षेत्र में सर्वाधिक राजस्व दिलाने में जंहा क्षेत्र की भूमिका अग्रणी रही है,वहीँ अवैध खनन में भी यह क्षेत्र प्रदेश में चर्चित है ।स्थानीय नागरिको की माने तो करोड़ों करोड़ रूपये का खेल इस सड़क के नाम पर हो चुका है ।लगभग प्रतिदिन इस सड़क पर एक नया गढ्ढा बनने का रिकार्ड भी रहा है ।उसके बावजूद यातायात के लिए ऐसी सड़क पुरे इलाके को कलंकित करने के लिए पर्याप्त है ।इसके ठीक उलट इसी क्षेत्र के सिमरा नहर से जमुई बाजार मार्ग पर भी जो सड़क निर्माण का काम शुरू है उसकी भी गुणवत्ता देखकर ऐसा प्रतीत होता है जैसे ये सड़क सिर्फ 40 दिनों के लिये बनाई जा रही हो ।बरसात के बाद ये सड़क टिका रहे इस पर लोगों का विशवास डगमगा रहा है |

Editor-in-chief of this district based news portal.

Comments are closed.