-विकास की रीढ है खण्ड विकास अधिकारी-DM,MIRZAPUR

जिलाधिकारी बिमल कुमार दूबे ने कहा कि खण्ड विकास अधिकारी विकास की रीढ है यदि वे चाहे तो पूरे ब्लाक में विकास कर क्षेत्र का कायाकल्प कर सकते है। जिलाधिकारी आज कलेक्ट्रेट सभागार में सभी खण्ड विकास अधिकारिायों व ग्राम पंचायत अधिकारियों की बैठक कर रहे थे। बैठक में जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि लगभग 20 दिन पहले पेयजल व सिचाई से प्रभावित वाले गाॅव में पेयजल मुहैया कराने हेतु ग्रामवार कार्ययोजना माॅगा गया था परन्तु अभी तक किसी भी खण्ड विकास अधिकारी के द्वारा कार्ययोजना प्रस्तुत नही किया गया। उन्होने कहा कि जिला योजना से संबंधित शासनादेश दिसम्बर में प्राप्त होने के पश्चात भी क्षेत्र पंचायतो से जिला योजना का प्रस्ताव नही बनाया गया। उन्होने निर्देशित करते हुए कहा कि बुद्धवार को शाम 5.00 बजे तक जिला योजना एवं पेयजल से संबंधित कार्ययोजना बनाकर किसी भी दशा में परियोजना निदेशक डीआरडीए को उपलब्ध करा दे।
ओडीएफ गाॅव की चर्चा करते हुए कहा कि जनपद के 809 ग्राम पंचायतों के 1954 ग्राम में से अभी तक मात्र 514 ग्राम ही ओडीएफ घोषित किये गये है, इसीप्रकार 2,38,452 शौचालयों के लक्ष्य के सापेक्ष अभी तक मात्र 1440,48 शौचालय ही बन पाये है। जबकि 31 दिसम्बर तक पूरे जनपद के गाॅवो का ओडीएफ करना है। इसीप्रकार गंगा के किनारे 6 ग्राम पंचायतो के 21 ग्रामों 6,836 शौचालय बनाये जाने है जिसमें कोई प्रगति परिलक्षित दिखाई नही दे रहा है। उन्होने कहा कि सभी खण्ड विकास अधिकारी इसके प्रति गंभीर होकर 15-15 दिनों का कार्ययोजना तैयार करें तथा 15 दिन पर अपने अधीनस्थों की बैठककर समीक्षा करें यदि कही पर कार्य नही हो पा रहा है तो उसकी तह मे जाकर पता करें तथा उसका निराकरण कराये। कार्य की प्रगति में यदि संबंधित कर्मचारी की लापरवाही प्रतित होती है तो उसके विरूद्ध सख्त कार्यवाही करें। इस दौरान परियोजना निदेशक हरिचरन सिंह, डीसी0 मनरेगा शुशील त्रिपाठी के अलावा सभी खण्ड विकास अधिकारी उपस्थित रहें।
———————————————————————————————–
ग्राम सचिवालय हुआ सक्रिय
जिलाधिकारी बिमल कुमार दूबे के निर्देश के क्रम में ग्रामीणों की समस्याओं को उनके गाॅव मे निस्तारण करने के उददेश्य से ही आज ग्राम सचिवालय को सक्रिय कर दिया। परियोजना निदेशक डीआरडीए जिलाधिकारी को जानकारी देते हुए बताया कि सभी गाॅवों ग्राम सचिवालय में ग्राम पंचायत अधिकारी सहित ग्राम स्तरीय अधिकारियों/कUnicode (Mangal) Text Area (यूनीकोड शब्द क्षेत्र)
र्मचारियों को बैठाकर ग्रामीणों की समस्याओं को सुना गया तथा मौके पर मुआयना कर यथा संभव निस्तारण किया गया। जिलाधिकारी ने कहा कि प्रत्येक दिन रोस्टर के अनुसार ग्राम स्तरीय अधिकारी/कर्मचारी ग्राम सचिवालय पर बैठकर ग्रामीणों की समस्याओं को सुने तथा उनका निस्तारण कराना सुनिश्चित कराये। उन्होने कहा कि यदि कोई समस्या ग्राम स्तर पर निस्तारित न होकर उच्चाधिकारियों से संबंधित है तो संबंधित अधिकारी को अवगत कराते हुए समयबद्ध तरीके से निस्तारण कराये।

Editor-in-chief of this district based news portal.

Comments are closed.