CFO जैसी मर्यादित कुर्सी को कलंकित करने वाला अधिकारी-MIRZAPUR

उत्तर प्रदेश,मिर्ज़ापुर जिला के मुख्य अग्निशमन अधिकारी के द्वारा NOC जारी करने के लिए मांगे गए रुपयों व अपने उच्च अधिकारी के नाम पर जनता को चुना लगाने वाले अधिकारी चन्द्रशेखर शर्मा का चरित्र उनके कार्यशैली को नंगा (बेनकाब) करने वाले पत्रकार वीरेंद्र गुप्ता को जान से मारने की धमकी दिए जाने के बाद पत्रकारों में उक्त अधिकारी के खिलाफ जबरदस्त आक्रोश व्याप्त हो गया है । चन्द्रशेखर शर्मा मिर्ज़ापुर मण्डल के अंदर पूरे तीन जिलों का जिम्मेदारी संभाल रहे है ।जिसमे मिर्ज़ापुर के अलावा भदोही ,सोनभद्र भी सम्मिलित है। CFO पर NOC देने के नाम पर रिश्वत मांगने का ही आरोप नही है बल्कि ओर भी गम्भीर आरोप इनके ऊपर लगाए जाते रहे जैसे यदि किसी व्यक्ति या संस्थान को अग्निशमन विभाग से NOC प्राप्त करनी हो तो उस भवन परिसर में लगाये जाने वाले उपकरण इन्हीं अधिकारी के मार्फत खरीदा जाय ऐसा इनके द्वारा दबाव बनाया जाता है । जिसमे इनको भारी मुनाफा उक्त सुप्लायर के माध्यम से मिलता है ।चूंकि जो सामग्री खुले मार्केट में यदि 10 रुपये का है इनके द्वारा सुझाए गए एजेंट से लेने पर वही माल 40 रुपये में दबाव बनाकर बिकवाया जाता है । रिश्वत मांगते हुए जब इनका असली चेहरा देश के सामने बेनकाब हुआ तो ना सिर्फ चन्द्रशेखर शर्मा ने CFO की कुर्सी को कलंकित किया बल्कि अपनी निकृष्ट कार्यशैली की वजह से पूरे उत्तर प्रदेश की खाकी वर्दी पर सवालिया निशान खड़ा कर दिया है । पत्रकार को जान से मारने की धमकी या पत्रकारिता छुड़ा देने की धमकी से कलम के सिपाही न झुके है ना झुकेंगे कहावत को चरितार्थ करते हुए पत्रकारिता की जिम्मेदारी को ,पत्रकारिता के कर्तव्य को और पत्रकारिता के धर्म को फिर से लोहा मनवाने में कामयाबी पत्रकार ने हासिल की है । ये जंग भृष्टाचार के खिलाफ ना सिर्फ पत्रकारों की जंग है बल्कि उत्तर प्रदेश में बैठी योगी सरकार और केंद्र में बैठी मोदी सरकार के भी मिसन का एक हिस्सा है । सभी की निगाहें इस बात पर टिकी है कि खाकी वर्दी को कलंकित करने वाला यह अधिकारी कितनी देर तक CFO जैसी मर्यादित कुर्सी को कलंकित करेगा ।

Editor-in-chief of this district based news portal.

Comments are closed.