बलात्कार अथवा छेड़खानी रोकने हेतु निम्नलिखित सावधानी अपनायें-POLICE MIRZAPUR

*बलात्कार अथवा छेड़खानी रोकने हेतु निम्नलिखित सावधानी अपनायें*
1- किसी सुनसान रास्तों पर महिलाओं अथवा किशोरियों को अकेले जाने की अनुमति न दें एवं उनके साथ किसी अन्य पारिवारिक महिला या किसी विश्वसनीय महिला को साथ में भेजें।
2- घरों में दरवाजे लगवायें तथा सीढियों पर भी दरवाजे लगवाये जाये तथा रात्रि के समय इनको अच्छी प्रकार से बन्द किया जाये ताकि सीढ़ियों के रास्ते कोई भी अनजान व्यक्ति घर के भीतर प्रवेश न कर सके।
3- प्रत्येक परिवार अपने-अपने घर के परिसर में बाथरूम एवं शौचालय बनवा लें ताकि रात्रि के समय अकेले बाहर जाने पर होने वाली घटनाओं पर रोक लगायी जा सके।
4- परिवार की महिलाओं को अकेले घर में छोड़ कर कहीं न जाये यदि आवश्यक हो तो अपने परिवार/पड़ोस के किसी अन्य महिला को सहेज कर ही जायें।
5- बाहरी अनजान व्यक्तियों द्वारा दिये जाने वाले प्रसाद अथवा अन्य प्रकार के खाद्य अथवा पेय पदार्थ न खायें अथवा परिवारीजन की उपस्थिति में ही खायें। प्रायः देखा गया है कि प्रसाद के नाम पर अपराधी सीधेसादे लोगों को नशीला या जहरीला पदार्थ खिलाकर बेहोश कर देते हैं और विभिन्न प्रकार की घटनायें जैसे चोरी, बलात्कार, अपहरण आदि कारित कर देते हैं।
6- किसी भी ढोंगी बाबा अथवा तांत्रिक की बातों में न आयें और न ही उनके द्वारा अकेले बुलाये जाने पर जायें। फिर भी यदि जाने की प्रबल इच्छा हो तो घर के किसी सदस्य को साथ लेकर ही जायें एवं ऐसे व्यक्तियों की गतिविधियों पर भी नजर रखें।
7- नौकरी के नाम पर ठगी करने वालों से बचें एवं किसी भी दशा में बाहरी अथवा अनजान व्यक्तियों के साथ अकेले कहीं भी ना जायें या घर के किसी सदस्य को साथ लेकर ही जायें।
8- महिलाओं अथवा किशोरियों को इस सम्बन्ध में विशेष सतर्कता बरतने की आवश्यकता है। अपने रिश्तेदारों अथवा घर के सदस्यों पर भी विशेष दृष्टि रखें तथा पूर्व में इस प्रकार की घटनाएं कारित करने वाले रिश्तेदारों अथवा पारिवारिक सदस्यों से भी विशेष रूप से सतर्क रहें।
9- किसी भी प्रकार की शिकायत, प्रताड़ना अथवा संदेह होने पर तत्काल 100 अथवा 1090 नम्बर डायल करें या सम्बन्धित पुलिस अधिकारी से सम्पर्क करें। महिलाओं एवं किशोरियों द्वारा इन उपायों का उपयोग करते हुये बलात्कार अथवा छेड़खानी की घटनाओँ को कम किया जा सकता है।
पुलिस अधीक्षक मीरजापुर द्वारा पुलिस लाईन मनोरंजन कक्ष में आहूत कानून-व्यवस्था सम्बन्धी मीटिंग में जनपद में बलात्कार एवं छेड़छाड़ की बढ़ती घटनाओं पर रोकथाम लगाये जाने हेतु समस्त क्षेत्राधिकारीगण तथा थाना/चौकी प्रभारियों को अपने-अपने क्षेत्र में जनचौपाल लगाकर आम जनता विशेषकर महिलाओं एवं किशोरियों को ऐसे अपराधों से बचने के उपाय बताये जाने हेतु निर्देशित किया गया। सभी थाना प्रभारियों से कहा गया कि अपने थाने पर नियुक्त समस्त हलका प्रभारियों एवं बीट आरक्षियों को इस सम्बन्ध में ब्रीफ करते हुये तत्काल कार्यवाही करायें एवं महत्वपूर्ण स्थलों पर स्वयं जाकर इस सम्बन्ध में लोगों को जागरूक करें।

*छेड़खानी अथवा बलात्कार से सम्बन्धित अपराधों के मुख्य कारण*
1- महिलाओं अथवा किशोरियों द्वारा अकेले सूनसान रास्तों पर यात्रा करना।
2- ऐसे घर जहां महिलाएं अकेली रहती हों उनमें दरवाजे न होना अथवा सीढ़ी के रास्ते आसानी से घर में पहुँच होना। अधिकांश घटनाएं रात्रि के समय दरवाजे खुले होने अथवा अपराधियों द्वारा सीढ़ियों के रास्ते घरों में पहुँचने के कारण घटित होती हैं।
3- घरों में बाथरूम व शौचालय न होने के कारण घरों की महिलाओं को अकेले बाहर जाना।
4- अनजान व्यक्तियों द्वारा दिये जाने वाले खाद्य अथवा पेय पदार्थों का सेवन करना।
5- बाबाओं अथवा तांत्रिकों द्वारा महिलाओं अथवा किशोरियों को बहला-फुसला कर उनकी नासमझी का गलत लाभ उठाना।
6- नौकरी दिलाने के नाम पर किसी अनजान व्यक्ति के साथ जाना।
7- कभी-कभी तो रिश्तेदारों अथवा परिवार के सदस्यों द्वारा भी इस प्रकार की घटनाएं कारित कर दी जाती हैं।

इस सम्बन्ध में पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा समस्त सम्बन्धित पुलिस कर्मियों को अपने-अपने क्षेत्रों में होने वाले जन चौपालों में कारणों एवं बचाव के निम्नलिखित उपायों को प्रत्येक परिवार को बताये जाने हेतु निर्देशित किया गया।

Editor-in-chief of this district based news portal.

Comments are closed.