आगॅनवाड़ी केन्द्रों को बनवाया जाना सुनिश्चित कराये-जिलाधिकारी बिमल कुमार दूबे

दिनांक 26 जुलाई, 2017
मीरजापुर-जिलाधिकारी बिमल कुमार दूबे की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में जनपद में कराये जा रहें विकास कार्यो की प्रगति की समीक्षा बैठक सम्पन्न हुई। बैठक को संबोधित करते हुए जिलाधिकारी ने सभी अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे जनपद के सर्वागीण विकास हेतु युद्ध स्तरीय प्रयास करें तथा यह सुनिश्चित करें कि उनके विभाग द्वारा संचालित कल्याणकारी योजनाओं के क्रियान्वयन में पूरी तत्परता व गति बनी रहे, ताकि योजनाओं का लाभ पात्र व्यक्ति को सरलता से प्राप्त हो सके। उन्होने कहा कि योजनाओं के क्रियान्वयन में उदासीनता/लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों के विरूद्ध कठोर कार्यवाही की जायेगी। उन्होने कहा कि निर्माण कार्यो को समयबद्धता एवं गुणवत्ता के साथ पूरा किया जाये। उन्होने कहा कि सभी अधिकारी अपने विभागों द्वारा संचालित योजनाओं को स्थलीय निरीक्षण करें, ताकि योजनाओं के संचालन में अपेक्षित गति आ सके। उन्होने कृषि उप निदेशक को निर्देशित किया कि वे किसानो के खुशहाली के लिए हर संभव प्रयास करें, तथा खाद्, रसायन की कमी न रहने दे। उन्होने किसान पारदर्शी योजना, सोलर फोटोबोल्टैइक इरीगेशन पम्प, हरित क्रान्ति आदि की समीक्षा करते हुए इन योजनाओं के कार्यो में प्रगति लाने के लिए संबंधित अधिकारी को निर्देशित किया।
जिलाधिकारी ने जिला कार्यक्रम अधिकारी को निर्देशित किया कि 15 अगस्त तक सभी आगॅनवाड़ी केन्द्रों को बनवाया जाना सुनिश्चित कराये तथा जिसका निर्माण पूर्ण हो गया है, उसको चालू कराया जाये। उन्होने कहा कि कहा कि शासन के निर्देश के क्रम 15 अगस्त तक पूर्ण कराया जाये, जिससे 15 अगस्त को ध्वजारोहण किया जा सके। इसमे किसी भी प्रकार की उदासीनता न बरती जाये। जिलाधिकारी ने सभी अधिकारियों को निर्देशित किया कि आईजीआरएस के समस्त प्रकरणो को प्रत्येक दशा में निस्तारण किया जाना सुनिश्चि किया जाये। उन्होने कहा कि शासन के मंशानुरूप समय अवधि में निस्तारण किया जाये। उन्होने कहा कि निस्तारण में शिथिलता बरतने वाले अधिकारी के विरूद्ध कठोर कार्यवाही की जायेगी। उन्होने अधिशासी अभियन्ता विद्युत को निर्देशित किया कि शहर में 24 घंटे तथा ग्रामीण क्षेत्र में 48 घंटे के अन्दर क्षतिग्रस्त ट्रान्सफार्मर को हर हाल में बदलना सुनिश्चित कराये। उन्होने दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना, एकीकृत बिजली विकास योजना को प्रभावी बनाये जाने के लिए निर्देश दिया। उन्होने यह भी कहा कि मानक के अनुसार ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में विद्युत आपूर्ति की व्यवस्था बनाई जाये। उन्होने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया कि स्वास्थ विभाग द्वारा संचालित की जा रही योजनाओं के क्रियान्वयन में तेजी लाएं तथा यह सुनिश्चित करें कि सामुदायिक स्वास्थ केन्द्र व प्राथमिक स्वास्थ केन्द्र में चिकित्सको की उपस्थिति शत-प्रतिशत हो तथा आवश्यक दवाओं का समुचित प्रबन्ध हो।
जिलाधिकारी ने फसल ऋण मोचन योजना में जनपद के 5वे स्थान पर आने पर कृषि उप निदेशक, जिला कृषि अधिकारी,एनआईसी के अधिकारी को बधाई दी। उन्होने बेसिक शिक्षा अधिकारी को निर्देशित किया कि शिक्षको की गुणवत्ता के सम्बन्ध में एक फार्मेट आया है, जो सभी जनपदीय अधिकारियों को उपलब्ध करा दे। उन्होने कहा कि शासन स्तर से 31 विन्दुओं वाले फार्मेट के आधार पर सभी जनपदीय अधिकारी स्कूलो में जाकर शिक्षको की गुणवत्ता की जाॅच कर आख्या देगें। उन्होने बेसिक शिक्षा अधिकारी तथा जिला कार्यक्रम अधिकारी को निर्देशित किया पोलिया ग्रस्त बच्चों की सूची मुख्य चिकित्साधिकारी को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें।
उन्होने विभिन्न विभागो में निर्माण कार्य करने वाली कार्यदायी संस्थाओं के अधिकारियों को निर्देशित किया कि अपने-अपने कार्य गुणवत्तापूर्वक ससमय पूरा करें।
जिलाधिकारी ने राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन, स्वच्छ शौचालय, बालिका छात्रावास,राष्ट्रीय स्वास्थ मिशन, राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन, मनरेगा, सांसद आदर्श गाॅव योजना, कुपोषण, वृक्षारोपण, आसरा योजना, अमृत योजना, कौशल विकास मिशन आदि कार्यक्रमों की विभागवार, विन्दुवार व्यापक समीक्षा की तथा योजनाओं में तेजी लाये जाने का निर्देश दिया।
बैठक में मुख्य विकास अधिकारी प्रियंका निरंजन, मुख्य चिकित्साधिकारी उमेश यादव, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी,जिला पंचायत राज अधिकारी, अपर मुख्य अधिकारी, अर्थ एवं संख्या अधिकारी सहित जनपदीय अधिकारीगण उपस्थित रहे।
——————————————————————
दिनांक 26 जुलाई, 2017
जनपद मीरजापुर में कारगिल विजय दिवस के मौके पर मण्डलीय अस्पताल के ब्लड बैंक में आयोजित रक्तदान का शुभारम्भ जिलाधिकारी बिमल कुमार दूबे ने किया। उन्होने कहा कि आज के दिन हमने कारगिल में जीत हासिल की थी। उन्होने कहा कि हमारे लिए यह गौरव का दिन है, इसे हम यादगार बनाने के लिए आइए किसी को जिन्दगी की सौगात दें। उन्होने आम जनता से अपील कि की रक्तदान से किसी भी प्रकार की कोई कमजोरी नहीं होती हैं। उन्होने कहा कि आप का निकला हुआ रक्त कुछ दिनों में शरीर में पुनः बन जाता है। उन्होने कहा कि 18 वर्ष से 65 वर्ष का कोई भी स्वस्थ व्यक्ति रक्तदान कर सकता हैं। उक्त अवसर पर मुख्य चिकित्साधिकारी उमेश यादव, सहित चिकित्सक व अन्य उपस्थित थे।

Editor-in-chief of this district based news portal.

Comments are closed.