संदेह के घेरे मे है सिटी हास्पिटल के वर्कर भी

0 डा0 नितिन दुआ के घर से नौकरानी द्वारा चोरी का मामला

, मिर्जापुर। सिटी कोतवाली अंतर्गत वासलीगंज पुलिस चौकी से चंद फर्लांग की दूरी पर बरियाघाट स्थित सिटी हास्पिटल के मालिक और जाने माने चिकित्सक डा0 नितिन दुआ के घर मे रसोइया के साथ साथ हास्पिटल मे काम करने वाली महिला द्वारा आलमारी से चोरी करके ले जाते समय पकडकर पुलिस के हवाले करने के बाद डाक्टर द्वारा सिटी कोतवाली मे दर्ज कराये गये प्राथमिकी पर गौर करेंगे तो 21 जुलाई को डा0 नितिन दुआ की पत्नी डा0 रीतु दुआ जब अपने कमरे मे से बाहर निकली तो उनके यहा विगत पाच साल से खाना बनाने वाली और हास्पिटल मे काम करने वाली तरकापुर निवासी 32 वर्षीय महिला यास्मीन खान पत्नी अमीन उनकी मां डा0 भावना दुआ के कमरे मे से निकलकर जा रही थी और डा0 रितु को देखते ही यास्मीन ने हाथ पीछे कर लिए। उसका हाथ आगे कर देखा तो तीन लाख रूपये ली हुई थी। इतने मे नितिन की मा डा0 भावना दुआ और अन्य काम वाली कु0 विनीता भी आ गई। डा 0 नीतिन के पूछने पर बताई कि उक्त तीन लाख रूपये आलमारी मे से निकाले है। यह देख डा0 नितिन के तो होश ही उड़ गये और उन्होने तुरंत आलमारी चेक किए तो उसमे पाच लाख रूपया और कम था। डा0 नितिन ने कड़ाई से पूछा तो यास्मीन ने स्वीकार किया कि वह पहले भी कई बार आलमारी से रूपये निकाल चुकी है। बताया जाता है कि डा0 नितिन और उनकी पत्नी डा0 रीति दुआ सुबह से दोपहर बाद तक हास्पिटल मे मरीज़ देखने मे लगे रहते है और इस दौरान मकान मे केवल उनकी मां ही रहा करती है। ऐसे मे यास्मीन को मौका मिला जाता रहा होगा। 

संदेह के घेरे मे है सिटी हास्पिटल के वर्कर भी

जिस हिसाब से महिला ने यह स्वीकार किया कि वह पहले भी आलमारी से पैसे निकालकर ले जा चुकी है और डा0 नितिन दुआ के सिटी हास्पिटल गेट पर ही आते और जाते समय सारे स्टाफ की तलाशी नियमित कराई जाती है कि हास्पिटल मे काम करने वाले वर्कर क्या लेकर आये है और वापसी के समय क्या लेकर जा रहे है। लेकिन इसके बाद भी महिला द्वारा आलमारी से पांच लाख रूपये लेकर बाहर निकल जाना हास्पिटल के अन्य वर्कर पर संदेह खडा करता है कि हो न हो किसी न किसी वर्कर या वर्कर्स का भी उनके घर से चोरी कराने का हाथ रहा हो और वह लोग उसे शह देते रहे हो। बहरहाल इतना तो तय है कि चिकित्सक द्वारा सीसीटीवी कैमरा लगाने के साथ ही नियमित चेकिंग के बाद भी उसके आलमारी से इतनी बडी रकम गायब हो जाना और चेकिंग के दौरान पकड़ मे न आना एक बडा सवाल खडा करता है। 

सिटी कोतवाल बोले: सवाल तीन लाख नगद वह तीन लाख के गहने बरामद

फोटोसहित  

सिटी कोतवाल वैभव सिंह ने बताया कि इस मामले मे अपराध संख्या 244/17 धारा 380/411 आईपीसी पंजीकृत करते हुए मामले के विवेचनाधिकारी चौकी प्रभारी शशिकांत यादव और उपनिरीक्षक राधेश्याम यादव को लगाया गया। जिन्होंने आरोपी के घर मे रखा रूपया वह सोने चांदी के जेवरात बरामद कर आरोपी को जेल भेजा गया। बरामदगी मे तीन लाख उनतीस हजार आठ सौ रूपये नगद समेत सोने के जेवरात वजन 75 ग्राम के साथ ही 800 ग्राम वजन के चादी के जेवरात बरामद हुए है। आभूषण की कुल कीमत ढाई लाख के लगभग बताई गई है। इस तरह 5 लाख 79 हजार 800 की बरामदगी मय आभूषण की गई है।

Editor-in-chief of this district based news portal.

Comments are closed.