बिना उद्योग के किसी क्षेत्र का विकास सम्भव नही- जिलाधिकारी

ग्राम विकास के कार्यो से जिलाधिकारी नाखुश
मीरजापुर- जिलाधिकारी बिमल कुमार दूबे ने शुक्रवार की देर शाम जिला पंचायत सभागार में ग्राम पंचायतों में ग्राम विकास के द्वारा कराये जा रहे कर्यो के प्रगति की समीक्षा के दौरान कड़ी नाराजगी व्यक्त किया। जिलाधिकारी ने सभी खण्ड विकास अधिकारियों तथा मनरेगा के टेक्निकल सहायकों एवं संबंधित विभाग के साथ बैठक कर विकास कार्यो के प्रगति की समीक्षा कर रहे थे।
जिलाधिकारी ने सभी खण्ड विकास अधिकारियों को निर्देशित किया कि जनपद में निर्माणाधीन सभी आंगनवाड़ी केन्द्रों को 14 अगस्त तक पूर्ण कराये ताकि 15 अगस्त को राष्ट्रीय पर्व पर उसका उद्घाटन किया जा सके। उन्होने प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के कार्य में तेजी लाने का निर्देश दिया तथा टेक्निकल सहायको से कहा कि माह के प्रत्येक तीसरे शुक्रवार को प्रगति की समीक्षा की जायेगी जिसमे सभी अधिकारी आपने गाॅव में कराये जा रहे सभी कार्यो के प्रगति विवरण के साथ उपस्थित होगें। उन्होने गाॅवों में वृच्छारोपण कराने का भी निर्देश दिया। सभी खण्ड विकास अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि मनरेगा सहित सभी कार्यो का साप्ताहिक कार्य योजना बनाकर टी0एस0 को दे तथा उसकी साप्ताहिक मानीटरिंग स्वयं करें। जिलाधिकारी ने कहा कि जिस टी0एस0 की प्रगति कम पायी जाती है तो उसके विरूद्ध कार्यवाही की जायेगी।
इस अवसर पर, परियोजना निदेशक, डी0सी0 मनरेगा, जिला पंचायत राज अधिकारी सहित सभी संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।
——————————————————————————
बिना उद्योग के किसी क्षेत्र का विकास सम्भव नही- जिलाधिकारी
मीरजापुर- जिलाधिकारी बिमल कुमार दूबे की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में जिला उद्योग बन्धु की बैठक सम्पन्न हुई। बैठक को संबोधित करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद मे औद्योगिक वातावरण बनाने हेतु हर संभव प्रयास किया जाये। इस दौरान जिलाधिकारी ने उपायुक्त उद्योग सहित अन्य सभी सम्बंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि उद्यमियों को हर सम्भव प्रशासनिक मदद दी जाये। उन्होंने कहा कि बिना उद्योग के किसी क्षेत्र का विकास सम्भव नहीं है। उन्होने उपायुक्त उद्योग को निर्देशित किया कि वे जनपद में अधिक से अधिक उद्योग स्थापित कराने हेतु नियमानुसार सार्थक प्रयास करें तथा यह सुनिश्चित करें कि उद्यमियों को किसी भी प्रकार की असुविधा न उत्पन्न हो। उन्होने कहा कि उद्यमियों के समस्याओं के निराकरण हेतु उद्योग विभाग पूरी तत्परता बरते। उन्होने कहा कि इस कार्य में लापरवाही बर्दाश्त नही की जायेगी तथा दोषी अधिकारी/कर्मचारी क विरूद्ध सख्त कार्यवाही की जायेगी।
जिलाधिकारी ने बैंको के अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे उद्यमियों की नियमानुसार हर संभव सहायता करें तथा यह सुनिश्चित करें कि बैंको द्वारा उद्यमियों को किसी भी प्रकार की कठिनाई न उत्पन्न हो। उन्होने कहा कि इसे गंभीरता से लिया जाये। उन्होने विद्युत विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे औद्योगिक क्षेत्र में मानक के अनुरूप विद्युत की आपूर्ति करें तथा यह सुनिश्चित करें कि विद्युत विभाग द्वारा उद्यमियों को मिलने वाली सुविधाएं नियमानुसार सरलता से मिल सके। उन्होने अग्निशमन अधिकारी तथा प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, लोक निर्माण विभाग,व्यापार कर के अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे उद्यमियों को हर संभव नियमित सहायता करें।
जिलाधिकारी ने औद्योगिक इकाईयो के स्वीकृत, प्रधान मंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम, आदि विन्दुओ की व्यापक समीक्षा की तथा संबंधित विभाग के अधिकारियो को कार्य में प्रगति लाने हेतु आवश्यक निर्देश दिये।
बैठक में मुख्य विकास अधिकारी प्रियंका निरंजन, उपायुक्त उद्योग, वी0के0 चैधरी,सहित विभिन्न विभागो के अधिकारीगण तथा उद्यमीगण उपस्थित थे।

Editor-in-chief of this district based news portal.

Comments are closed.