साईकिल के साथ ट्रेन में सफर करने की पूरी छूट-MIRZAPUR

जंहा पुरे भारत का रेलवे स्टेशन में विशेष सतर्कता बरत रहा है ,वहीं मिर्ज़ापुर में सुरक्षात्मक तमाम नियमावली को ताक पर रखा जा रहा है | इलाहबाद मुगलसराय के बीच चलने वाली ट्रेन को ही देखे जिसमे किसी भी यात्री को खुलेआम अपनी साईकिल के साथ ट्रेन में सफर करने की पूरी छूट दी गई है |आप साईकिल रिक्शा चाहे तो सीट पर रख लें अन्यथा बाहर खिड़की में लटका लें ना तो कोई बोलने वाला है ना कोई चेक करने वाला |जानकार बताते है की अनधिकृत तरीके से किसी भी प्रकार का वाहन ,दो पहिया, चार पहिया प्लेटफार्म पर नहीं लाया जा सकता परन्तु यदि आप मिर्ज़ापुर रेलवे स्टेशन पर है तो आप को पूरी स्वतंत्रता दे दी गई है |चाहे साईकिल को बाकायदा रेलगाड़ी के डब्बे में बाँध लीजिये या रेल की पटरियों के नट बोल्ट निकाल लीजिये ,यंहा कोई सम्बंधित अधिकारी बोलने वाला नहीं है |आखिर मिर्ज़ापुर का रेलवे प्रशासन क्यों बड़े हादसे की व्यवस्था कर रहा है |क्या प्लेटफार्म पर अधिकारीयों के बीच आंतरिक कलह का परिणाम है या आपस में समंजस्यता का आभाव ?अगर ऐसा भी नहीं है तो क्या कर रही है RPF ?बड़ा सवाल उठना तो लाजमी है |आर्थिक दृष्टिकोण से देखे तो जो साईकिल पार्सल कार्यालय से बुकिंग होती है उससे बाकायदा रेलवे को शुल्क की प्राप्ति होती है |मगर यहां एक नहीं सैकड़ो साईकिल प्रतिदिन ढोई जा रही है वो भी बिना बुकिंग के जिससे ना सिर्फ आर्थिक रूप से बल्कि सुरक्षा की दृष्टि से भी भारी भूल की जा रही है |सबसे ज्यादा इन घटनाओ का आश्चर्य इसलिए की ये सारी लापरवाही प्लेटफार्म नंबर एक का है साथ ही साथ यहाँ स्टैशन मास्टर के सामने ऐसी घटना बड़ा सवाल खड़ा करता है| आपको बता दे की स्टैशन मास्टर पिछले लबे वक्त से मिर्ज़ापुर में रह रहे है |

Editor-in-chief of this district based news portal.

Comments are closed.