समाचारइन्साफ नहीं मिला तो प्राण त्याग देंगे -गप्पू सोनकर

इन्साफ नहीं मिला तो प्राण त्याग देंगे -गप्पू सोनकर

पुलिस की तानाशाही व् जुल्म की चर्चा लोग सुनते सुनते थक गए होंगे,लेकिन उ.प्र. के मिर्ज़ापुर जिले के गप्पू सोनकर निवासी कटरा कोतवाली थाना क्षेत्र के ऊपर क्षेत्र इलाके की स्थानीय पुलिस के द्वारा बर्बरता व् क्रूरता की सारी हदें लांघ जाने का इल्जाम गप्पू सोनकर ने मिडिया के आगे दुखी व् विचलित मन से किया है ।गप्पू सोनकर का आरोप है कि विपक्षी के द्वारा बनावटी जमीनी विवाद उत्पन्न करके पुलिस के द्वारा उसको मारा पीटा गया ।क्षेत्र में इस बात की भी चर्चा है कि गप्पू सोनकर विकलांग है विकलांग गप्पू सोनकर ने ऐसा क्या जुर्म किया,जिससे पुलिस ने थर्ड डिग्री का इस्तेमाल किया?पुलिस के द्वारा गप्पू के जिस्म पर ढाये गए एक एक बेंत के निशान को जिसने भी देखा उसको जंगल राज होने का सहज ही अहसास होने की स्थिति उत्पन्न होने लगी।जानकारी के मुताबिक गप्पू सोनकर अपने जीवन काल में किसी भी प्रकार के हिनीयस क्राइम में लिप्त नही रहा है| लिहाजा आम जन मानस में यह जानने की प्रबल इच्छा है कि एक विकलांग को बेरहमी से पीटा जाना किन स्थितियों परिस्थितियों का कारण बना ,जनता के सामने यह यक्ष प्रश्न आज भी चर्चा में है ।पीड़ित गप्पू सोनकर ने पुलिस कप्तान मिर्ज़ापुर को घटना की जानकारी देने के उपरान्त उम्मीद किया है कि दोषी पुलिस कर्मी को निलंबित किया जाय नहीँ तो पीड़ित मुख्यालय पर धरना देने के लिए बाध्य हो जायेगा ।पीड़ित ,पुलिस जुर्म की इस कार्यवाही से इतना आहात है कि अपने तीनों बच्चों के सामने आत्महत्या कर लेने जैसी घोषणाओं से परिवार के सभी सदस्यों के जीवन को जकझोरकर रख दिया है ।घटना दिनांक 16/06/2017 का बताया गया है ।

आज ही डाउनलोड करें

विशेष समाचार सामग्री के लिए

Downloads
10,000+

Ratings
4.4 / 5

नवीनतम समाचार

खबरें और भी हैं

- Advertisement -