समाचारप्रतिष्ठित डिग्री कॉलेज के टीचर के विचार से हो सकते है हैरान...

प्रतिष्ठित डिग्री कॉलेज के टीचर के विचार से हो सकते है हैरान -मिर्ज़ापुर

मिर्जापुर कन्हैया लाल बसंतलाल स्नातकोत्तर महाविद्यालय में खुल्लम खुल्ला पर्यावरण नियमावली की धज्जियां उड़ाई जा रही थी बड़ी बात यह है कि जब कानून का उल्लंघन खुले रुप से किया जा रहा था उस वक्त सिर्फ मौके पर हजारों छात्र ही नहीं अपितु के बी डिग्री कॉलेज की प्राचार्य भी वही मौजूद थी प्राचार्य ने माना की इस तरीके से खुले रुप से विद्यालय के प्रांगण के अंदर कापियों का जलाना और प्रदूषण फ़ैलाना यह नहीं होना चाहिए था .प्राचार्य ने कहा की हमारे कई बार निर्देश देने के बावजूद हमारे शिक्षक हमारे स्टाफ वह हमारे कर्मचारियों के द्वारा यह भूल हुई है| लेकिन जब इस विषय पर अंग्रेजी के अध्यापक से जानकारी प्राप्त करी गई तो साफ तौर पर उनका कहना है कि मिर्जापुर में प्रदूषण के स्तर की कोई चिंता नहीं है यह इलाका प्रदूषण मुक्त है यहां धूप भी निकलता है लिहाजा पांच और 10 मिनट के इस तरीके से किसी चीज को जला देना प्रदूषण पर कोई इसका बुरा प्रभाव नहीं पड़ता |यह अपने आप में चौंकाने वाला और गुमराह करने वाला बयान जब लोगों ने सुना एक बात लोगों ने दांतों तले उंगली दबाया की जिस शिक्षण संस्थान से प्रदूषण के खिलाफ लड़ने का जंग छेड़ा जा रहा हो तमाम सेमिनार प्रदूषण को लेकर आयोजन और आयोजित किए जाते रहे हो जिस प्रांगण के अंदर विश्वविद्यालय का यह संदेश होना चाहिए वायु प्रदूषण रोकने का उपाय करने का ,छात्र और छात्राओं का तरीका बताएं उसी के द्वारा इस तरीके से खुले रूप से प्रदूषण को फैलाने की प्रक्रिया को देख छात्रों के मन में क्या गुजरा होगा यह भी चर्चा एक दूसरे से लोग करते देखे गए | छात्रों के द्वारा दी गई परीक्षा के पश्चात कई कुंतल कापियां पुरानी हो गयी थी जिसको आज विद्यालय के प्रशासन ने खुले मैदान में जलाया था और जैसे-जैसे कई कुंतल कागज जले,वैसे-वैसे विद्यालय के प्रति पर्यावरण का विचार और उनके द्वारा अपनाए जा रहे व जनपद में चलाये जा रहे पर्यावरण जागरूकता रैली की भी पोल खुलती जा रही थी |

आज ही डाउनलोड करें

विशेष समाचार सामग्री के लिए

Downloads
10,000+

Ratings
4.4 / 5

नवीनतम समाचार

खबरें और भी हैं

- Advertisement -