समाचारविकास प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों में लापरवाही क्षम्य नहीं - जिलाधिकारी

विकास प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों में लापरवाही क्षम्य नहीं – जिलाधिकारी

मीरजापुर 8 नवंबर 2019 जिलाधिकारी सुशील कुमार पटेल की अध्यक्षता में आज कलेक्ट्रेट सभागार में मुख्यमंत्री के विकास प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों की मासिक समीक्षा बैठक की गई। इस दौरान जिलाधिकारी ने स्वास्थ्य विभाग के बारे में जानकारी प्राप्त की जिस पर मुख्य चिकित्साधिकारी द्वारा बताया गया कि स्वास्थ्य विभाग में होने वाली भर्ती के संबंध में महानिदेशक स्वास्थ्य को अवगत करा दिया गया है ताकि चिकित्सकों की कमी को दूर किया जा सके। इस पर जिलाधिकारी उनके द्वारा भी प्रमुख सचिव को पत्र भेजे जाने की बात कही। जिलाधिकारी ने ट्रामा सेंटर के बारे में जानकारी प्राप्त की जिस पर सीएमओं ने बताया कि ट्रामा सेंटर बन कर तैयार है बिजली का कनेक्शन भी करा दिया गया है। स्टाफ और चिकित्सकों के लिए भी पत्र प्रेषित किया जा चुका है, आते ही प्रारंभ कर दिया जायेगा। टीकाकरण की जानकारी पर बताया गया कि जिले में 98 प्रतिशत टीकाकरण का लक्ष्य पूरा किया जा चुका है। यह भी बताया कि डेंगू के 15 केस सामने आयें हैं जिनका उपचार किया जा रहा है। समाज कल्याण की समीक्षा के दौरान बताया गया कि विभाग द्वारा संचालित सभी पेंशन इत्यादि लाभार्थियों को समय से उनके खाते में भेजा जा रहा है। दिव्यांगजन पेंशन के बारे जिलाधिकारी ने निर्देशित किया कि कैंप लगाकर इनकों लाभान्वित किया जाये। कृषि विभाग की समीक्षा के दौरान बताया गया कि खाद की मात्रा प्र्याप्त है इसके लिए जिले के किसानों को भटकना नहीं पड़ेगा। बीज की भी उपलब्धता बनी हुई है। इस दौरान जिलाधिकारी ने फसल बीमा योजना के तहत लाभार्थियों को धनराशि उपलब्ध कराने के निर्देश दिए ताकि किसानों को किसी प्रकार की खेती किसानी के दौरान परेशानी न होने पाये। समीक्षा बैठक में बताया गया कि जिले में कुल 105 धान क्रय केन्द्र निर्धारित हैं जिनमें से 104 खोले जा चुके हैं, तीन धान क्रय केन्द्रों पर धान की खरीद भी प्रारंभ कर दी गई है। इसी क्रम में बताया गया कि मुख्यमंत्री समग्र ग्राम विभाग योजनान्र्तगत विभिन्न ग्राम सभाओं में 19 निर्माणाधीन आंगनवाड़ी केन्द्रों का निर्माण प्रगति पर है। जिसमें 17 तैयार हो चुके हैं शेष दो का कार्य तेजी पर है। जिलाधिकारी ने पोषण दिवस के बारे में जानकारी प्राप्त की जिस पर उन्हें बताया गया कि उक्त दिवस को सम्पन्न कराया जा रहा है। बताया गया कि 92 कुपोषण ग्राम चिन्हित हैं जिनमें 18 को कुपोषण मुक्त कराया जा चुका है। बाकी बचे ग्रामों को भी कुपोषण मुक्त करने का काम तीव्र गति से किया जा रहा है। इस दौरान जिलाधिकारी ने सेतु निगम की समीक्षा के दौरान उन्हें बताया गया कि जिले में चार सेतुओं का निर्माण कराया जा रहा है। जिनमें हलिया स्थित बेलन नदी का कार्य 60 प्रतिशत पूरा किया जा चुका है। मझवां स्थित बेलवन नदी पर निर्माणाधीन पुल का 36 प्रतिशत कार्य पूरा करा लिया गया है। इसी प्रकार विंध्याचल के शिवपुर स्थित पर कार्य प्रारंभ नहीं हो पाया है शीघ्र ही कार्य पूरा कराने को कहा गया। विधुत विभाग की समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी ने सौभाग्य योजना के बारे में जानकारी प्राप्त की जिस पर उन्हें बताया गया कि इस योजना के तहत पात्र लाभार्थियों को नियमानुसार कनेक्शन दिया जा रहा है। जहां बिगड़े और जर्जर, पुराने विद्युत तार, ट्रसंर्फामर है उन्हें बदले जाने का काम किया जा रहा है। जिलाधिकारी ने समीक्षा बैठक के दौरान परिवहन विभाग, खनन विभाग, प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना, मुख्यमंत्री आवास योजना, मनरेगा योजनाओं की गहन विंदुवार समीक्षा करते हुए कार्य में गुणवक्ता के साथ ही तेजी लाये जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि विकास कार्यो में थिथिलता क्षम्य नहीं होगी। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी प्रियंका निरंजन, मुख्य चिकित्साधिकारी डा. ओपी तिवारी, डीपीआरओं, वन अधिकारी सहित सभी विभागों के संबंधित अधिकारी मौजूद रहे हैं।

आज ही डाउनलोड करें

विशेष समाचार सामग्री के लिए

Downloads
10,000+

Ratings
4.4 / 5

नवीनतम समाचार

खबरें और भी हैं

- Advertisement -