समाचारसेक्सुअल एब्यूज, अवसाद ,तनाव ,मोबाइल के चंगुल में फस गए हो तो...

सेक्सुअल एब्यूज, अवसाद ,तनाव ,मोबाइल के चंगुल में फस गए हो तो इन नंबर पर करें संपर्क -14416



डिग्री कॉलेज के छात्र-छात्राओं को मानसिक स्वास्थ्य के प्रति सचेत और जागरूक करने तथा उनके अंदर मानसिक समस्याओं के निवारण के लिए नोडल ऑफिसर डा ऋषभ कुमार के संयोजन में सिफ्प्सा वित्त पोषित Health Promotion Focussing Mental Health and Life skills among youth of degree colleges विषय एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन जीडी बिनानी पीजी कॉलेज में किया गया। वर्तमान में युवाओं के अंदर बढ़ रहे मानसिक समस्याओं के निवारण एवं उसके प्रति उनको सचेत करने के लिए राज्य स्तर पर अभियान चलाया जा रहा है जिसके अंतर्गत मिर्जापुर जनपद के जीडी बिनानी पीजी कॉलेज का चयन सिफ्प्सा लखनऊ द्वारा किया गया है। सिफ्पसा लखनऊ द्वारा महाविद्यालय के नोडल ऑफिसर डा ऋषभ कुमार एवं अन्य प्राध्यापकों राजीव कुमार सिंह, अभिषेक कुमार मौर्य एवं दिव्या यादव को लखनऊ में दो दिवसीय प्रशिक्षण दिया गया था।

एक दिवसीय कार्यशाला की शुरुआत महाविद्यालय के प्रभारी प्राचार्य डॉक्टर मदन कुमार श्रीवास्तव के द्वारा मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण के साथ किया गया। प्रथम सत्र में छात्र-छात्राओं का पंजीकरण करने के पश्चात डा ऋषभ कुमार ने प्रोजेक्ट के बारे में बताते हुए छात्र छात्राओं को वर्तमान में मानसिक स्वास्थ्य की महत्ता , उस पर ध्यान न देने से होने वाले नुकसान और सकारात्मक मानसिक स्वास्थ्य के लाभों एवं मानसिक स्वास्थ्य के संरक्षण के बारे में बताते हुए बताया गया कि सकारात्मक मानसिक स्वास्थ्य से ही व्यक्ति अपने जीवन में सफलता प्राप्त कर सकता है और समाज एवं देश के लिए योगदान कर सकता है। डा ऋषभ कुमार ने बताया कि मानसिक स्वास्थ्य के लिए सबसे आवश्यक एक स्वस्थ जीवनशैली, स्वयं के बारे में जागरूक रहना, मोबाइल और इंटरनेट का सीमित प्रयोग, दूसरो की मदद करना जैसी चीजें करनी चाहिए। डा ऋषभ कुमार ने टेली मानस टोल फ्री नंबर 14416 बारे में बताया जिसके कॉल कर घर बैठे मानसिक स्वास्थ्य के बारे में जानकारी और काउंसलिंग प्राप्त की जा सकती है।
जिला मानसिक स्वास्थ्य टीम के सदस्य डा राहुल सिंह ने छात्र – छात्राओं को स्वयं को स्वीकार करने, नशे से दूर रहने आदि की सलाह दी। इसके साथ ही अवसाद के बारे में बताते हुए कहा कि अवसादग्रस्त व्यक्ति को मदद की आवश्यकता होती है। यदि अवसाद से ग्रस्त व्यक्ति दुनिया के बेकार होने की बात करने लगे तो उसे तत्काल मदद करनी चाहिए।
इसके पश्चात अभिषेक मौर्य द्वारा सभी को सामान्य मानसिक समस्याओं नशे की समस्या, सेक्सुअल एब्यूज, सोशल मीडिया इंटरनेट के अति प्रयोग आदि के बारे में बताया गया।
लंच के पश्चात आयोजित द्वितीय सत्र में राजीव सिंह द्वारा मानसिक स्वास्थ्य से जुड़े मिथकों और गलत अवधारणाओं के बारे में अवगत कराया और सही समय पर डॉक्टर से मिलने की बात कही न की उसका झाड़ फूंक करवाया जाए।
अंत में कार्यक्रम की संचालक दिव्या यादव द्वारा सभी को स्वस्थ जीवशैली और लाइफ स्किल के बारे में बताया जिनसे व्यक्ति मानसिक रूप से स्वस्थ रह सकता है।
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए प्रभारी प्राचार्य डा मदन कुमार श्रीवास्तव ने सभी को सकारात्मक सोच और खुश रहने की सलाह दी। सिफ्प्सा के नोडल ऑफिसर डा राजमोहन शर्मा ने सभी को धन्यवाद ज्ञापन किया। कार्यक्रम में डा वंदना मिश्रा, डा सुशील कुमार त्रिपाठी, जय प्रकाश सिंह आदि प्राध्यापक उपस्थित रहे।

आज ही डाउनलोड करें

विशेष समाचार सामग्री के लिए

Downloads
10,000+

Ratings
4.4 / 5

नवीनतम समाचार

खबरें और भी हैं