समाचारलोगों को वज्रपात से बचाव की जानाकरी देना ही वज्रपात से बचाव...

लोगों को वज्रपात से बचाव की जानाकरी देना ही वज्रपात से बचाव -जिलाधिकारी


• वज्रपात से सुरक्षा व बचाव जागरूकता प्रशिक्षण कार्यशाला का जिलाधिकारी ने दीप प्रज्जवलित कर किया शुभारम्भ

मीरजापुर, 30 दिसम्बर, 2022-
वज्रपात के बारे में सही जानकारी ही वज्रपात से बचाव है, ये बातें आज सिटी क्लब, मिर्जापुर के सभागार में उत्तर प्रदेश राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के सौजन्य से कार्यदायी संस्था टाईम्स सेंटर फार लर्निग लिमिटेड एवं जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण, मीरजापुर द्वारा आयोजित वज्रपात सुरक्षा एवं जागरुकता कार्यक्रम के अन्तर्गत जिलाधिकारी दिव्या मित्तल ने कही। प्रशिक्षण कार्यशाला में मुख्य अतिथि के रुप में बोलते हुए जिलाधिकारी दिव्या मित्तल ने प्रतिभागियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि मीरजापुर जनपद में पिछले कुछ वर्षों में बहुत से लोगों की मृत्यु वज्रपात के कारण घटित हुई है जिसमें अधिकांश हमारे किसान भाई, महिलाएं एवं बच्चे शामिल थे। उन्होंने बताया कि इन घटनाओं में ज्यादातर लोगों की जान तब गयी जब वे खेतों में काम कर रहे थे या पेड़ों के नीचे खड़े थे, या जल स्रोतों के आसपास थे। वज्रपात से बचाव की सही जानकारी का न होना ही उनकी मृत्यु का कारण रहा है।

दीप प्रज्जवलित कर प्रशिक्षण कार्यशाला का शुभारम्भ करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि ये खुशी की बात है मीरजापुर का चयन पायलट प्रोजेक्ट के रुप में किया गया है। इस अवसर पर जिलाधिकारी दिव्या मित्तल ने प्रशिक्षण में प्रतिभाग करने वाले राजस्व विभाग से आये नायब तहसीलदार, तहसीलदार, लेखपाल, राजस्व निरीक्षक को निर्देषित किया कि प्रशिक्षण को अति गंभरीता पूर्वक प्रतिभाग करें और सीखी गयी जानकारी को अपने माध्यम से अपने अधीनस्थों एवं अपने क्षेत्र के अन्दर जन समुदाय से साझा करें जिससे अधिक से अधिक लोगों तक व्रजपात से बचाव की जानकारी का प्रचार प्रसार किया जा सके।

कार्यक्रम में अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व श्री शिव प्रताप शुक्ल ने बताया कि वज्रपात के दृष्टि से जनपद मीरजापुर अति संवेदनशील है और इस कार्यक्रम के अन्तर्गत जनपद एवं सभी संवेदनशील विकास खण्ड में प्रशिक्षण एवं जन-जागरुकता कार्यक्रम किया जाना है। इस कार्यक्रम के माध्यम से निश्चित रुप से विभागीय अधिकारियों, कर्मचारियों के साथ साथ आम जन मानस में वज्र्रपात से बचाव का जानकारी के साथ साथ दामिनी मोबाईल एप के बारे में भी जानकारी मिलेगी जिससे व्यापक रुप में जन हानि एवं पशुओं की क्षति को कम किया जा सकेगा।
कार्यक्रम के बारे में टाईम्स सेंटर फार लर्निंग लिमिटेड के रीजनल हेड बृजेष मिश्रा ने बताया कि माननीय मुख्यमंत्री जी के दिशा निर्देश में वज्रपात से होने पर मृत्यु को कम करने के उद्देश्य से उत्तर प्रदेश के सर्वाधिक प्रभावित 3 जनपद प्रयागराज, मिर्जापुर एवं सोनभद्र जनपद में उत्तर प्रदेश राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के वित्तीय सहयोग में कार्यदायी संस्था टाईम्स सेंटर फार लर्निंग लिमिटेड द्वारा व्रजपात सुरक्षा-जागरुकता कार्यक्रम का संचालन शुरु किया गया है। इस परियोजना का मुख्य उद्देष्य अधिक से अधिक लोगों को प्रशिक्षित एवं जागरुक कर वज्रपात से होने वाली जन एवं पशु की क्षति को कम करना है।
प्रशिक्षण के अन्तर्गत TCLL के सलाहकार मनोज कुमार सिंह ने बताया कि वज्रपात की घटनाएं ज्यादातर जून माह से शुरु होकर अक्टूबर माह तक बनी रहती है। इस अवसर पर उन्होंने बताया कि पिछले 3 साल में हुई कुल मृत्यु में से 71 प्रतिषत मृत्यु तब हुई जब मृतक व्यक्ति पेड़ के नीचे आश्रय लिये हुए थे। इस अवसर पर उन्होंने प्रतिभागियों को वज्रपात के कारण, वज्रपात के लक्षण, वज्रपात के दृष्टि से जोखिम समूह एवं सम्पत्तियां, वज्रपात की रोकथाम, एवं आपदा के देश में स्वरूप पर विस्तृत चर्चा करी l ,

प्रशिक्षण के दौरान उपजिलाधिकारी लालगंज नवनीत सेहरा, उप-जिलाधिकारी सदर सी0बी0 सिंह, उप-जिलाधिकारी चुनार नीरज पटेल, उप-जिलाधिकारी मड़िहान अष्वनी सिंह, एवं जिला आपदा विषेषज्ञ अंकूर गुप्ता भी मौजूद रहे।

आज ही डाउनलोड करें

विशेष समाचार सामग्री के लिए

Downloads
10,000+

Ratings
4.4 / 5

नवीनतम समाचार

खबरें और भी हैं