समाचारहोली में नेचुरल रंगों का करे प्रयोग मिलजुल कर मनाएं होली का...

होली में नेचुरल रंगों का करे प्रयोग मिलजुल कर मनाएं होली का पर्व – ज्योति श्रीवास्तव




मिर्जापुर जनपद की प्रतिष्ठित समाजसेवी व आरएसएस समर्थक ज्योति श्रीवास्तव ने जनपद वासियों से अपील की है कि होली का त्यौहार बहुत ही सौहार्दपूर्ण वातावरण में मनाएं ।
रंगों का प्रयोग करने के पहले जांच परख कर ले कि रंग केमिकल युक्त ना हो।
प्राकृतिक रंगों का प्रयोग को प्राथमिकता में प्रयोग करने की सलाह दी है। त्यौहार को सौहार्दपूर्ण वातावरण में मनाने के साथ-साथ बच्चों में व नई पीढ़ियों में त्यौहार के प्रति जागरूकता पुरानी परंपरा का संरक्षण व एक दूसरे से गले मिलने की परंपरा को महत्वपूर्ण बताते हुए कहा की होली का त्यौहार हम सभी को एक दूसरे से भाईचारा सिखाता है । मुजेहराकला में हुए इस बैठक में इलाके के अन्य संभ्रांत लोगों ने भी होली के त्यौहार को बढ़-चढ़कर मनाने के साथ जल के बचत के लिए भी आवश्यक दिशा निर्देश जारी किए हैं।बैठक के दौरान संतोष कुमार सिंह श्याम सुंदर सिंह सुमारू सिंह शत्रुघ्न शैलेंद्र सिंह बबलू सिंह रामपाल कुलदीप मिश्रा आदि लोग मौजूद रहे ।ज्योति श्रीवास्तव के पति हाई कोर्ट के जाने-माने वकील आशीष श्रीवास्तव ने उपरोक्त जानकारी दी।
समाजसेवी ज्योति श्रीवास्तव ने बताया कि जिलाधिकारी मिर्जापुर दिव्या मित्तल के विचारों से प्रभावित होकर उन्होंने इलाके के लोगों के साथ बैठक की जिसमें होली के इस पावन पर्व को पर्व के रूप में मनाने की सलाह दी गई ।खुशियों के इस त्यौहार के माध्यम से अपने जीवन में सभी रंगों की प्रमुखता और उसकी उपयोगिता के मद्देनजर आने वाले समय को और भी रंगों से भरा जा सके। उन्होंने कहा कि दूसरे जीवन में रंग भरना ही इस त्योहार का प्रमुख संदेश है ।एक दूसरे से गले मिलकर एक दूसरे के घरों में जाकर बड़ो का आशीर्वाद लेना विशेष प्रकार के व्यंजन जिसमें गुजिया पपड़ी खस्ता समोसा ठंडाई आदि आए हुए मेहमानों को खिलाकर होली के त्यौहार को मनाने की परंपरा रही है।

आज ही डाउनलोड करें

विशेष समाचार सामग्री के लिए

Downloads
10,000+

Ratings
4.4 / 5

नवीनतम समाचार

खबरें और भी हैं